सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया हिज्बुल आतंकी मन्नान वानी
         Date: 11-Oct-2018

 

 
 
गुरूवार को जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में सुरक्षा बलों को एक बड़े ऑपरेशन में दो आतंकियों को मार गिराने में सफलता हासिल की है. इन दोनों में से एक आतंकी की पहचान हिजबुल मुजाहिद्दीन के कमांडर मन्नान वानी के तौर पर हुई है. आपको याद होगा कि इस साल जनवरी महीने में मन्नान वानी ने हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होकर एक सनसनी पैदा कर थी। क्योकिं मन्नान हिज्बुल में शामिल होने से पहले अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में एक स्कॉलर था.. मन्नान कुपवाड़ा जिले के ताकिपोरा गांव का रहने वाला था. बाद में सोशल मीडिया पर घातक हथियारों के साथ उसकी तस्वीर वायरल होने के बाद एएमयू ने मन्नान वानी को निष्कासित कर दिया था.
 
 
 

गुरूवार सुबह खुफिया जानकारी मिलने पर सुरक्षा बलों ने इलाके को घेर लिया। घंटों चले एनकाउंटर के बाद सुबह 11 बजे 2 आतंकियों के मारे जाने की खबर आई। बाद में जिसमें पुष्टि हुई कि इनमें से एक मन्नान वानी है। हालांकि कुपवाड़ा में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान भारतीय जवानों को पत्थरबाजी भी झेलनी पड़ी. जानकारी के अनुसार वहां करीब 500 अलगाववादी इकट्ठा हो गए थे और वहां सेना के विरोध करते हुए उन लोगों ने भारी पत्थरबाजी भी की. लेकिन ये मन्नान वानी को नहीं बचा पाये।

मन्नान वानी के मारे जाने के बाद उसकी मौत पर राजनीति भी शुरू हो चुकी है. जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने ट्विटर पर इस बारे में टिप्पणी की है.

 
 

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में निकाय चुनाव के बीच सेना को बड़ा इनपुट मिला था कि करीब 300 आतंकवादी कश्मीर घाटी में सक्रिय हैं, जबकि 250 से अधिक आतंकवादी भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं. बता दें कि सेना ने घाटी से आतंकियों का खात्मा करने के लिए बाकायदा लिस्ट तैयार की थी, जिसके तहत ऑपरेशन ऑलआउट चलाया गया. इस विशेष ऑपरेशन के दौरान सेना सैकड़ों की संख्या में आतंकियों को मौत के घाट उतार चुकी है.