कश्मीर घाटी में बीजेपी मारी बाज़ी, सकते में नेशनल कांफ्रेस और पीडीपी
         Date: 27-Sep-2018


 
आतंक प्रभावित क्षेत्र में मतदान से पहले ही निर्विरोध जीते 5 कश्मीरी हिंदू उम्मीदवार
 
जम्मूआतंक प्रभावित क्षेत्र में मतदान से पहले ही निर्विरोध जीते 5 कश्मीरी हिंदू उम्मीदवार कश्मीर में शहरी स्थानीय निकाय औऱ पंचायत चुनाव के शुरूआती दौर में बीजेपी तमाम विरोधी पार्टियों को पटखनी देती दिखाई दे रही है। कश्मीर घाटी के मुस्लिम बहुल और आतंक प्रभावित क्षेत्र में 5 कश्मीरी हिंदू उम्मीदवारों को निर्विरोध विजयी घोषित कर दिया गया। जीतने वालों में अचबल से ऱिषभ वली और उर्मिला वली, देवसर से सतीश कुमार जुत्शी औऱ कुलगाम से ज्योति औऱ बबलू गोसानी शामिल हैं। ये जीत इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योकिं इन क्षेत्रों में पारम्परिक तौर पीडीपी और नेशनल कांफ्रेस का प्रभुत्व रहा है। ऐसे में नैशनल कांफ्रेस औऱ पीडीपी दोनों ही पार्टियों के लिए ये एक बड़ा झटका है।
 

 
दरअसल दोनों ही पार्टियों ने आर्टिकल 35ए का बहाना बनाकर चुनाव का बहिष्कार की घोषणा कर रखी है। लेकिन राज्य आम नागरिकों पर इसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है। निकाय चुनावों के अनुमान से ज्यादा उम्मीदवारों ने नामांकन किया है। जिसको देखते हुए पीडीपी और नेशनल कांफ्रेस में बगावत शुरू हो गई है। बुधवार को नेशनल कांफ्रेस ने 6 और नेताओं को चुनाव बायकॉट का विरोध करने के चलते पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इससे पहले पार्टी प्रवक्ता जुनैद मट्टू पहले ही पार्टी से बगावत कर श्रीनगर से चुनाव लड़ने की घोषणा कर चुके हैं। साफ है कि पार्टी कार्यकर्ताओं औऱ आम कश्मीरियों के बीच दोनों पार्टियों के चुनाव बहिष्कार का हथकंडा फेल होता नजर आ रहा है।
 
 
 
 
इस बीच जम्मू कश्मीर प्रशासन ने चुनाव की सुरक्षा व्यव्स्था को चाक –चौबंद रखने की बात दोहराई है। राज्य में चुनाव के दौरान सुरक्षा बलों की 400 अतिरिक्त कंपनियां तैनात कर दी गयी हैं। साथ ही सरकार ने चुनाव ड्यूटी पर तैनात सरकारी कर्मचारिय़ों को एक महीने का अतिरिक्त बोनस देने की घोषणा की है। हालांकि चुनाव को देखते हुए सरकार तमाम कर्मचारियों की छुट्टी पहले ही रद्द् कर चुकी है।
 

 
गौरतलब है कि राज्य के शहरी स्थानीय निकाय और पंचायत के 422 वार्ड के लिए मतदान कराया जायेगा। इस सभी वार्ड पर अब तक कुल 1496 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किये हैं। जिसमें जम्मू क्षेत्र में 1138, लद्दाख में 106 और कश्मीर में 250 उम्मीदवार शामिल हैं।