Whaaaat !! पाकिस्तान में 16 दसवीं फेल फर्ज़ी पायलट सालों से उड़ा रहे थे PIA इंटरनैशनल फ्लाइट्स, पकड़े गये
         Date: 10-Jan-2019
 
 
कुछ हादसे ऐसे हैं जो दुनिया में सिर्फ पाकिस्तान में हो सकते हैं। पाकिस्तान की सिविल एविएशन अथॉरिटी की जांच में खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान की फ्लैगशिप एयरलाइन पीआईए में कम से कम 16 कमर्शियल पायलट ऐसे हैं, जिन्होंने जाली सर्टिफिकेट्स के आधार पर नौकरी हासिल की है। यहां तक कि उन्होंने दसवीं तक पास नहीं की है। लेकिन फिर भी ये फर्जी पायलट सालों से पीआईए की इंटरनैशनल फ्लाइट्स उड़ा रहे हैं। सिविल एविएशन अथॉरिटी ने फिलहाल उनको फ्लाइट्स उड़ाने पर रोक लगा दी है। लेकिन इसके लायसेंस अभी तक रद्द नहीं किये गये हैं। न ही उनको नौकरी से निकाला गया है। इंटरनैशनल नियमों के हिसाब से इन फर्जी पायलटों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।
 
लेकिन ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि न तो सिविल एविएशन अथॉरिटी इनको नौकरी से निकालने की सिफारिश कर रही है। यहां तक कि पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस साकिब निसार ने भी इनके लायसेंस रद्द को कहा, लेकिन नौकरी से न निकालने को कहा। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि एविएशन से संबंधित नियमों को लेकर पाकिस्तान कितनी संजीदा है।
 

 
पीआईए का है फर्जीवाड़े से पुराना नाता
  • पीआईए के कम से कम 10 पायलट ड्रग्स और कीमती सामान की तस्करी के जुर्म में पकड़े जा चुके हैं।
  • 2013 में ब्रिटेन में लीड्स से इस्लामाबाद आ रही फ्लाइट के पायलट ने नशे में एयरपोर्ट पर हंगामा किया, जिसको पुलिस ने गिरफ्तार तक जेल में डालना पड़ा
  • 2016 में घाटे में डूब रही एयरलाइंस से जिन्नों का साया उतारने के लिए एक प्लेन के सामने एक बकरे की बली दी गयी थी। लेकिन इसके एक महीने बाद ही एक प्लैन क्रैश में 47 लोग मारे गये थे।
  • 2017 में न्यूयोर्क एयरपोर्ट पर दो डेडबॉडी ताबूत को एय़रपोर्ट पर ही बेसहारा छोड़कर आ गये।
  • 2017 में ही लंडन से एक पीआईए पायलट बिना किसी बिल के कई आई-फोन की तस्करी के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया गया था।
  
केबिन क्रू भी फर्जी निकला
 
 
फर्जीवाड़े की ये करामात सिर्फ पायलटों तक सीमित नहीं है, जांच में पता चला है कि पीआईए केबिन क्रू के 65 मेंबर्स भी दसवीं फेल हैं। इनके पास भी 10वीं, 12वीं और प्रोफेशनल डिप्लोमा के तमाम सर्टिफिकेट फर्जी निकले। इनको भी फिलहाल केबिन क्रू से बाहर कर दिया गया। लेकिन इनको भी नौकरी से नहीं निकाला गया।
 

 
 
 
एएफपी की रिपोर्ट के बाद फूटा भांडा
 
 
दरअसल पिछले महीने एएफपी ने एक खबर की थी, जिसमें पीआईए में 3 फर्जी डिग्रीधारक पायलटों का भांडाफोड़ किया गया था। इसके बाद सिविल एविएशन अथॉरिटी ने जांच बिठायी थी। जिसके बाद अब पता चला है कि फर्जी पायलटों की संख्या 16 है।