J&K बीडीसी चुनाव जीते उम्मीदवारों ने कहा- दलितों और क्षेत्र के विकास के लिये करेंगे काम
   26-अक्तूबर-2019

 
 
जम्मू-कश्मीर ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल (बीडीसी) के चुनाव में जीते उम्मीदवारों ने कहा कि वो दलितों और क्षेत्र के विकास के लिये काम करेंगे। उन्होंने कहा कि चुनाव जीतने के बाद उनके फोन बंद नहीं हुये है, सभी रिश्तेदार और शुभचिंतक लगातार बधाई दे रहे है। 24 अक्टूबर को हुये बीडीसी चुनाव में 307 में से 217 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की थी।
 
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 निरस्त होने के बाद से आतंकी लगातार जम्मू-कश्मीर का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे है। ऐसे समय पर जम्मू-कश्मीर में पहली बार हुये बीडीसी चुनाव में बड़ी संख्या में मतदान होना और 307 में से 217 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों की जीत दर्शाती है कि जम्मू-कश्मीर के लोग विकास की राह पर है।
 
 
बडगाम जिले के बीके पोरा ब्लॉक से चुनाव जीती रूबीना कहती है कि “हमारे घर में उत्सव मन रहा है, लोगों के बधाई संदेश लगातार आ रहे है। उन्होंने कहा चुनाव का परिणाम घोषित होने के बाद से मेरे पिता का फोन बजना बंद नहीं हुआ है।
 
 
गांदरबल के 24 वर्षीय तस्लीमा ने कहा कि वह काफी खुश हैं। चुनाव परिणाम आने के बाद से पूरा परिवार खुश है। कई लोग मुझसे मिलने आ रहे और कई लोग फोन पर बधाई दे रहे है। उन्होंने कहा कि मुकाबला कठिन था।
 
 
बारामूला जिले के सोपोर ब्लॉक से जीती बीजेपी उम्मीदवार फरीदा ने कहा लोग मुझे बधाई दे रहे है। हम सभी लोग मिलकर ब्लॉक के विकास के लिये अब काम करेंगे। फरीदा अर्थशास्त्र विषय में पीएचडी हैं।
 
जम्मू-कश्मीर पंचायत सम्मेलन के अध्यक्ष और निर्दलीय उम्मीदवार शफीक मीर ने भी चुनाव जीता है। उन्होंने कहा कि हम चाहते थे कि लोग निर्दलीय प्रत्याशियों को वोट दें और जनता ने ऐसा ही किया। बड़ी संख्या में निर्दलीय प्रत्याशियों ने बीडीसी चुनाव में जीत दर्ज की है।
 
 
नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और कांग्रेस सहित मुख्यधारा की अधिकांश पार्टियों ने बीडीसी चुनावों का बहिष्कार किया था।