कश्मीर से 3 महीनों में रिकॉर्ड 6 लाख मीट्रिक टन फल किये एक्सपोर्ट, आतंकी हमलों के बावजूद जारी है सेब व्यापार
   26-अक्तूबर-2019
 
 
 
आर्टिकल 370 हटाये जाने और आतंकियों द्वारा बंद की कॉल के बावजूद कश्मीर फलों, खासतौर पर सेब का एक्सपोर्ट बदस्तूर जारी है। सरकार द्वारा किये गये इंतजामों के चलते कश्मीर घाटी से पिछले 3 महीनों में रिकॉर्ड फलों का एक्सपोर्ट किया गया है। सरकार द्वारा जारी आकंड़ों के मुताबिक पिछले 3 महीनों में 6 लाख मीट्रिक टन फल घाटी से बाहर भेजा गया है।
 
 
ट्रांसपोर्ट विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी डॉ असगर समून के मुताबिक सरकार द्वारा मुहैया कराई गयी ट्रांसपोर्ट सुविधाओं के चलते इस आंकड़े को छूना संभव हुआ है। आपको बता दें सरकार ने कश्मीर में लोकल मंडियों में फ्रूट प्वाइंट्स बनाये हैं। जहां तक सेब किसान या व्यापारी फलों को डायरेक्ट सरकार को बेच सकता है। इससे आगे पहुंचाने की जिम्मेदारी सरकार ने उठायी है।
 
 
जाहिर है फलों की बदस्तूर आवाजाही से आतंकी हताश है, क्योंकि उनकी बंद की कॉल का कोई असर स्थानीय व्यापारियों पर नहीं हो रहा है। लिहाजा आतंकियों ने एक्सपोर्ट प्रक्रिया में शामिल कड़ी ट्रक ड्राइवर को निशाने पर ले रखा है।
 
 
24 अक्टूबर को आतंकियों ने शोपियां जिले में 2 ट्रक ड्राइवर की हत्या कर दी थी। जोकि अलवर के रहने वाले थे। इससे पहले भी इसी महीने आतंकियों ने शोपियां में ही 2 बार ट्रक ड्राइवर पर आतंकी हमला किया था, जबकि एक बार पुलवामा में एक गैर-कश्मीरी सेब व्यापारी की जान ले ली थी।
 
 
इन हमलों के बाद ट्रक ड्राइवरों में खौफ का माहौल ज़रूर है, लेकिन सुरक्षा एजेंसियों ने इन आतंकी हमलों में शामिल आतंकियों को ढूंढ निकालने के लिए विशेष टीमें गठित की हैं। साथ ही हाईवे पर ट्रकों की आवाजाही के वक्त सुरक्षा भी बढ़ा दी है।