पाकिस्तान को लगा झटका, भारत ने रद्द करवाया फ्रांस की संसद में पीओजेके के राष्ट्रपति का कार्यक्रम
    03-अक्तूबर-2019

 
भारत के कहने पर फ्रांस ने पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू-कश्मीर (पीओजेके) के राष्ट्रपति को फ्रांस में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने पर रोक लगा दी। पीओजेके के राष्ट्रपति मसूद खान फ्रांस में पाकिस्तानी दूतावास द्वारा आयोजित कार्यक्रम में फ्रांसीसी सांसदों को संबोधित करने वाले थे। लेकिन राजधानी पेरिस में स्थित भारतीय दूतावास ने फ्रांस के विदेश मंत्रालय को एक डेमार्श (आपत्ति पत्र) भेजते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रम से भारत की संप्रभुता पर हमला होगा। जिसके बाद फ्रांस ने भारत की बात मानते हुये मसूद खान के कार्यक्रम पर रोक लगा दी। पाकिस्तान को लगातार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाकामी ही हाथ लग रही है।
 
 
 
प्रवासी भारतीयों ने भी नेशनल असेंबली के स्पीकर और सांसदों को मेल करके आपत्ति पत्र भेजे थे। मसूद खान फ्रांस के निचले सदन में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने वाले थे। जब उन्हें फ्रांस सरकार ने कार्यक्रम में आने की इजाजत नहीं दी तो पाकिस्तान के राजदूत मोइन-उल हक ने उस कार्यक्रम में हिस्सा लिया।
 
फ्रांस हमेशा भारत के साथ
 
फ्रांस हमेशा भारत के साथ मिलकर पाकिस्तानी परस्त आतंकियों का खात्मा चाहता है।फ्रांस संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य है। इस साल की शुरुआत में भी फ्रांस ने यूएनएसी में जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन का प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करवाने में भारत का साथ दिया था।