कश्मीर की पहली महिला पहलवान ने कहा- बेटी बचाओ, पहलवान बनाओ
    04-अक्तूबर-2019
 
 
कश्मीर की पहली महिला पहलवान नाहिदा नबी ने नारा देते हुये कहा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और बेटी को पहलवान बनाओ। नाहिदा नबी शुक्रवार को नवरात्र के अवसर पर कटरा में आयोजित मिशन दोस्ती महादंगल में भाग लेने पहुंची थी, जहां पर उन्होंने ये नारा दिया था। उन्होंने घाटी के लोगों से आग्रह करते हुये कहा बेटियों को कुश्ती या किसी अन्य खेल खेलने की अनुमति दें, ताकि वो अपने सपने को पूरा कर सके। नाहिदा ने घाटी की लड़कियों से भी अपील करते हुये कहा कि वो घर से बाहर आये और खेल के माध्यम से परिवार, समाज को गर्व महूसस कराये। उन्होंने कहा कि लड़कियों को खेल का महत्व नहीं पता है , अगर सरकार मुझे मौका देती है तो मैं यहां की एक टीम को प्रशिक्षित कर सकती हूं।
 
 
 
 
 
नाहिदा नबी कुश्ती के साथ कबड्डी की भी खिलाड़ी
 
नाहिदा ने कॉलेज के दिनों को याद करते हुये बताया कि वो जब जम्मू यूनिवर्सिटी में पढ़ती थी तब वो कबड्डी की अच्छी खिलाड़ी थी। लेकिन बाद में एक दोस्त के कुश्ती कोच बन जाने के बाद वो कुश्ती खेलने लगी थी। उन्होंने कहा कि 2018 में वो पहली बार उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप खेली थी।
 
घाटी की लड़कियों को प्रशिक्षित करने का सपना
 
नाहिदा ने बताया कि उनका एक सपना है कि वो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करें। वहीं दूसरा सपना है कि वो घाटी की लड़कियों को कुश्ती का प्रशिक्षण दे और उनकी एक टीम तैयार करें।