J&K- घाटी से दूसरे राज्यों में भेजे गये सेब से भरे 11 हजार ट्रक, सेब व्यापारी खुश
    04-अक्तूबर-2019

 
 
जम्मू-कश्मीर सेब व्यापारियों ने गुरुवार को सेब से भरे 11 हजार ट्रकों को देश के अलग-अलग क्षेत्रों में भेजा है, जिसमें सेब की करीब 1 करोड़ पेटिया है। अनुच्छेद 370 के निरस्त होने के बाद से पहली बार इतनी तादाद में सेब की खेप दूसरे राज्यों में भेजा गया है। व्यापारियों ने अगस्त महीने में 3 हजार 660 और सितंबर में 6 हजार 506 ट्रकों से सेब की खेप दूसरे राज्यों में भेजा था। आतंकवादी लगातार सेब व्यापारियों को सेब की खेप राज्य से बाहर नहीं भेजने के लिये धमका रहे थे और उनके ऊपर हमला भी कर रहे थे। जिसके कारण सभी सेब व्यापारी व्यापार करने से डर रहे थे। लेकिन केन्द्र सरकार द्वारा सुरक्षा देने के बाद से सेब व्यापारियों ने राहत महसूस की और कश्मीर से दूसरे राज्यों में सेब का निर्यात फिर से शुरु हो गया है।
 
कश्मीर के मुख्य बाजारों से हो रहा सेब का व्यापार
 
सेब का व्यापार इस वक्त सिर्फ कश्मीर के मुख्य फल बाजारों से ही हो रहा है। क्योंकि सोपोर, श्रीनगर, शोपियां और अनंतनाग के बाजार ज्यादातर बंद है। आतंकवादी फल बाजार के व्यापारियों को व्यापार नहीं करने धमकी दे रहे है।
 
आतंकवादियों ने तीन व्यापारियों को ऊपर किया था हमला
 
आतंकवादियों ने बीते दिनों सेब व्यापार को रोकने के लिये सोपोर में एक लड़की सहित तीन सेब व्यापारियों को गोली मारकर घायल कर दिया था। जिसके बाद व्यापारियों में आतंक को लेकर दहशत था। लेकिन प्रशासन की तरफ से सुरक्षा मुहैया कराने के बाद से व्यापारी धीरे-धीरे व्यापार की ओर वापस लौट रहे है।
 
 
कश्मीर में प्रतिवर्ष 22 मिट्रिक टन सेब का उत्पादन
 
कश्मीर में सेब बाग के मालिक अजाज अहमद भट ने बताया कि कश्मीर में प्रतिवर्ष 22 मिट्रिक टन सेब का उत्पादन होता है और इस पूरे व्यापार का मूल्य करीब 10 हजार करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि घाटी में 1.67 लाख हेक्टेयर भूमि पर सेब की खेती होती है और करीब 7 लाख परिवार इस सेब व्यापार पर ही निर्भर है। इस वर्ष सेब की पैदावार सामान्य पैदावार से 10 प्रतिशत अधिक हुयी है। लेकिन आतंकवादियों द्वारा परेशान करने के कारण इस बार व्यापारियों और सेब बाग मालिकों को नुकसान हुआ है।