“पाकिस्तान से बात होगी, तो पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू कश्मीर पर बात ज़रूर होगी”- रक्षामंत्री राजनाथ सिंह का दो-टूक जवाब
   24-जुलाई-2019


 
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज कड़े शब्दों में लोकसभा में कहा कि- मैं यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं, पाकिस्तान से यदि बात होगी तो पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू कश्मीर पर भी बात होगी।“ इस बयान के बाद कश्मीर मुद्दे और पाकिस्तान से बातचीत पर सरकार का रूख और स्पष्ट हुआ है।
 
कश्मीर में मध्यस्थता को लेकर ट्रंप के बयान पर संसद में विपक्ष लगातार हंगामा कर रहा है। आज फिर लोकसभा में विपक्ष ने पीएम मोदी के स्टेटमेंट की मांग की, इसको लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फिर सरकार का रूख स्पष्ट करते हुए कहा कि-
 
“ये सच है कि हमारे प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच बातचीत हुई थी, लेकिन हमारे विदेश एस जयशंकर ने स्टेटमेंट देते समय ये पूरी तरह से स्पष्ट कर दिया कि कश्मीर के मुद्दे पर राष्ट्रपति ट्रंप के साथ कोई बातचीत नहीं हुई है। इससे ऑथेंटिक स्टेटमेंट किसी दूसरे का नहीं हो सकता और मैं सर्वाधिक ऑनेंटिक स्टेटमेंट इसको इसीलिए भी मान रहा है हूं क्योंकि जिस समय मोदी जी की ट्रंप से बातचीत हो रही थी। हमारे विदेश मंत्री जयशंकर जी स्वयं वहां मौजूद थे।“
 
 
 
“…और मैं यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कश्मीर पर सवाल पर किसी की मध्यस्थता का कोई प्रश्न ही खड़ा नहीं होता। क्योंकि हम इस सच्चाई को जानते हैं, क्योंकि ये शिमला समझौते की मंशा के सर्वथा विपरीत होगा। इसीलिए किसी की मध्यस्थता को स्वीकार करने का कोई औचित्य ही नहीं।“
 
अपने बयान के अंत में राजनाथ सिंह ने सीधे और तीखे शब्दों में दो-टूक साफ कहा कि-
 
“यह बात अपनी जगह है, लेकिन मैं यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कश्मीर के मुद्दे पर हम इसीलिए भी किसी की मध्यस्थता स्वीकार नहीं करेंगे क्योंकि ये हमारे राष्ट्रीय स्वाभिमान का प्रश्न है। हम सब कुछ स्वीकार कर सकते हैं, लेकिन किसी भी कीमत पर हम राष्ट्रीय स्वाभिमान पर समझौता नहीं कर सकते और मैं यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं, पाकिस्तान से यदि बात होगी तो पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू कश्मीर पर भी बात होगी।“