आरकेएस भदौरिया बने भारतीय वायु सेना के नये चीफ, कहा- “ राफेल विमान से चीन, पाकिस्तान के ऊपर भारत को मिलेगी बढ़त”
    30-सितंबर-2019

 
 
राफेल विमान से भारतीय वायु सेना की क्षमता बढ़ेगी साथ ही इससे पाकिस्तान और चीन के ऊपर भारत को बढ़त भी मिलेगी। दरअसल आरकेएस भदौरिया ने सोमवार को 26 वें भारतीय वायु सेना प्रमुख के रूप में पदभार संभालने के बाद न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में ये बात कही। उन्होंने कहा कि राफेल एक बहुत ही सक्षम विमान है, वायुसेना इसे एसयू-30 के साथ संयोजन कर सकता है। भारतीय वायु सेना में टेक्नोलॉजी और हथियार के रुप में राफेल एक बार फिर गेम चेंजर साबित होगा। पदभार संभालने के बाद आरकेएस भदौरिया राष्ट्रीय युद्ध स्मारक गये और शहीदों को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना प्रमुख का पदभार संभालना मेरे लिये बहुत ही सम्मान की बात है, भारतीय वायु सेना दुनिया के सबसे बेहतरीन वायु सेनाओं में से एक है।
 
 
 
 
आरकेएस भदौरिया राफेल सौदे के प्रमुख
 
आरकेएस भदौरिया ने भारत और फ्रांस के बीच 2016 में हुये 60 हजार करोड़ के 36 राफेल लड़ाकू विमान सौदे में प्रमुख भूमिका निभायी थी। भदौरिया विमान सौदे में भारतीय टीम के अध्यक्ष थे और उन्होंने इस सौदे को मंजूरी दिलायी थी।
 
बालाकोट जैसे एयर स्ट्राइक के लिये भारतीय वायु सेना हमेशा तैयार
 
आरकेएस भदौरिया ने कहा कि बालाकोट जैसे एयर स्ट्राइक के लिये भारतीय वायु सेना हमेशा तैयार रहती है। वायु सेना भविष्य में किसी भी चुनौती के लिये तैयार है।
 
आरकेएस भदौरिया कई अहम पदों दे चुके है सेवाएं
 
आरेकएस भदौरिया 15 जून, 1980 को ‘स्वॉर्ड ऑफ ऑनर' के साथ वायुसेना के लड़ाकू दल में शामिल हुये थे। उन्होंने नेशनल डिफेंस एकेडमी में कमांडेंट, सेंट्रल एयर कमांड में ऑफिसर वायुसेना अधिकारी का कार्यभार संभाल चुके है। 1 मार्च 2017 से वो दक्षिणी कमान में एयर ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ भी रहे है। इसके बाद उन्होंने 1 अगस्त 2018 को बेंगलुरु स्थित प्रशिक्षण कमान के प्रमुख का पदभार संभाला था। आज 30 सितम्बर 2019 को उन्होंने वायु प्रमुख का पदभार संभाला है।