कनाडा के MP ने पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ, कहा – भारत सरकार द्वारा कश्मीरी पंडितों की घर वापसी की योजना सराहनीय कदम
   13-जनवरी-2021

pm modi_1  H x

कनाडा संसद सदस्य बॉब सरोया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा कश्मीरी पंडितों को घाटी में दोबारा बसाए जाने की योजना का स्वागत किया है। कनाडा के ओंटारियो इलाके के मार्खम यूनियन विल के संसद सदस्य बॉब सरोया ने जनवरी 1990 में हुये कश्मीरी पंडितों के विस्थापन की निंदा करते हुये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  द्वारा उन्हें घाटी में दोबारा बसाये जाने की योजना का स्वागत किया है। बता दें कि दुनिया भर में रह रहे विस्थापित कश्मीरी पंडित 19 जनवरी को विध्वंस दिवस के रूप में याद करते हैं। इस वर्ष 1990 में कश्मीर घाटी  की हिंदू आबादी पर हमले की 31 वीं वर्षगांठ मनाई जा रही है।


कश्मीर की हिंदू आबादी पर हमले की इस 31 वीं वर्षगांठ पर दिये एक बयान में बॉब सरोया ने लिखा कि मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मांग करता हूँ कि मानवता के खिलाफ हो रहे ऐसे अपराधों को रोकने के लिए प्रभावी उपाय किये जाने चाहिए। मैं कश्मीरी हिंदुओं को उनके घरों में वापस लौटने में मदद करने की भारत सरकार की योजनाओं का समर्थन करता हूं। उन्होंने जनवरी 1990 में हुये भीषण हत्याकांड में मारे या घायल हुये लोगों के परिवार और प्रियजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।


कश्मीर में मंदिरों की बदहाल हालत पर कनैडियन सांसद ने कहा कि मैं कश्मीर में पुराने हिंदू मंदिरों की बदहाली की निंदा और स्थानीय पंडित समुदाय के धैर्य साहस की सराहना करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं इस भीषण नरसंहार और विस्थापन की प्रक्रिया में खुद को बचा पाने के लिए कश्मीरी पंडितों के साहस की सराहना करता हूं। कश्मीरी पंडितों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से अपने पुनर्वास की मांग करते हुये उनसे मांग की कि उन्हें वापसी, बहाली, पुनर्वास और राजनीतिक सशक्तीकरण के लिए क्षेत्र और मौके प्रदान किये जाये। उन्होंने मुख्य सचिव के अधीन सिंगल विंडो नोडल प्राधिकरण बनाने की भी मांग की है। जिसके तहत सभी कश्मीरी पंडितों को संबोधित करने और सभी योजनाओं को लागू किया जा सके। गौरतलब है कि 31 साल पहले 19 जनवरी 1990 के दिन पाकिस्तान परस्त आतंकियों और इस्लामिक कट्टरपंथियों के जुर्म और अत्याचार से परेशान होकर बड़ी संख्या में हिंदू समुदाय के लोग कश्मीर घाटी छोड़ने के लिए मजबूर हुये थे। लेकिन अब पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में घाटी में कश्मीर हिंदूओं की वापसी की कवायद तेज हो गई है।