नक्सलियों ने भेजी अगवा जवान राकेश्वर सिंह की फोटो, जम्मू में रिहाई के लिए सड़क पर उतरे परिजन
   07-अप्रैल-2021

JK_1  H x W: 0


छत्तीसगढ़ के बीजापुर और सुकमा सीमा पर नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ के बाद अगवा कोबरा कमांडो का नक्सलियों ने फोटो जारी किया है। नक्सलियों ने स्थानीय पत्रकार को फोन करके बताया कि राकेश्वर सिंह पूरी तरह से सुरक्षित है। इसके अलावा नक्सलियों ने यह भी कहा कि सरकार की ओर से जब तक मध्यस्थता का निर्णय नहीं लिया जाता, तब तक वह उनके कब्जे मे रहेंगे। हालांकि  जवान के भाई ने नक्सलियों द्वारा जारी तस्वीर पर सवाल उठाया है। रणजीत सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनको इस फोटो पर विश्वास नहीं है। उन्होंने नक्सलियों से राकेश्वर सिंह का वीडियो या ऑडियो भेजने की मांग की है। रणजीत सिंह का कहना है कि इस तरह की तस्वीर उनके मोबाइल में पहले की हो सकती है। वहीं  सीआरपीएफ के सूत्रों ने कहा है कि मीडिया में दिखाई जा रही फोटो कोबरा जवान राकेश्वर सिंह की ही है।
 


खबरों के मुताबिक नक्सलियों ने जवान को रिहा करने के लिए कुछ शर्तें भी रखी हैं। नक्सलियों की पहली शर्त यह है कि सरकार एक मध्यस्थ नियुक्त करे। उनका कहना है कि जब तक मध्यस्थों के नाम का ऐलान नहीं होगा, तब तक जवान को रिहा नहीं किया जायेगा। वहीं लापता जवान की फोटो जारी होने से पहले  बीजापुर के एक पत्रकार ने दावा किया कि उसके पास नक्सलियों ने दो बार फोन किया था। नक्सलियों का कहना है कि जवान घायल है, उसे दो दिन में रिहा कर दिया जायेगा। बता दें कि राकेश्वर सिंह की रिहाई के लिए उनका परिवार और आस-पास के लोग सड़कों पर उतरे हैं। उनका पूरा परिवार बड़ी संख्या में युवाओं के साथ जम्मू-अखनूर हाईवे पर बैठ गया। परिवार की सरकार से मांग है कि जल्द से जल्द राकेश्वर सिंह को रिहा किया जाये।
 


गौरतलब है कि बीते शनिवार को छत्तीसगढ़ के बीजापुर में पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) के और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस एनकाउंटर को लेकर नक्सलियों ने अपने दो पेज के पत्र में कहा है कि बीजापुर हमले में 24 सुरक्षाकर्मियों की जान गई थी और  31 घायल हुए थे। वहीं 1 जवान उनकी हिरासत में है। इसके अलावा पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी के 4 जवानों की जान चली गई थी। नक्सिलयों ने कहा कि हम सरकार से बातचीत को तैयार हैं। वे मध्यस्थों की घोषणा कर सकते हैं, हम जवान को रिहा कर देंगे। जवान हमारे दुश्मन नहीं हैं।