पाकिस्तान में नहीं सुरक्षित महिलाएं, इस्लामाबाद में पूर्व राजनयिक की बेटी की बेरहमी से हत्या
    21-जुलाई-2021
 
pakistan_1  H x


पाकिस्तान में एक पूर्व राजनयिक की बेटी की मंगलवार को नृशंस हत्या कर दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दक्षिण कोरिया में पाकिस्तान के राजदूत रहे शौकत मुकादम की बेटी नूर मुकादम की इस्लामाबाद में उनके घर में हत्या कर दी गई। बता दें कि हत्यारे ने पहले नूर मुकादम को गोली मारी और इसके बाद उनका सिर कलम कर दिया। डॉन’ अखबार के मुताबिक शौकत मुकादम की बेटी नूर मुकादम (27) इस्लामाबाद के सेक्टर एफ-7/4 इलाके में मंगलवार को मृत पायी गयी थी। शौकत मुकादम पूर्व में दक्षिण कोरिया और कजाकिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत रह चुके हैं। वहीं पुलिस ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि हत्यारा पीड़िता का ही एक दोस्त है जिसका नाम जहीर जफर है। जानकारी के मुताबिक वह पाकिस्तान के एक बड़े बिजनेसमैन का बेटा है। पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है।


वहीं इस घटना के बाद पूरे पाकिस्तान समेत अन्य देशों में आक्रोश देखने को मिल रहा है। सोशल मीडिया पर  #JusticeForNoor और #JusticeForNoorMukadam ट्रेंड कर रहा है। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जहीद हफीज चौधरी ने नूर मुकादम की मौत पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि वह अपने वरिष्ठ सहयोगी और पाकिस्तान के पूर्व राजदूत की बेटी की हत्या पर बेहद दुखी हैं और शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हैं। जहीद हफीज चौधरी ने कहा कि उन्हें आशा है कि हत्यारों को उनके गुनाह की सजा जल्द मिलेगी।

 बता दें कि अभी हाल ही में पाकिस्तान में मौजूद अफगानिस्तान के राजनयिक नजीबुल्लाह की बेटी को अगवा किया गया था। इन सभी घटनाओं के बाद लगातार पाकिस्तान में मौजूद भारत समेत अन्य देशों के राजनयिकों की सुरक्षा पर सवाल उठ रहा है। हाल ही में अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करके बताया था कि पाकिस्तान में अफगान राजदूत नजीबुल्लाह अलीखील की बेटी सिलसिला अलीखील का बीते 17 जुलाई (शनिवार) को इस्लामाबाद स्थित उनके घर लौटते वक्त अपहरण कर लिया गया था। अगवा करने के बाद उसे कई घंटों तक बुरी तरह से टॉर्चर किया गया, हालांकि अपहरणकर्ताओं के चुंगुल से बच निकली थी। वहीं नजीबुल्लाह अलीखील ने इस मामले पर ट्वीट कर लिखा था कि 17 जुलाई को मेरी बेटी को इस्लामाबाद से अगवा कर लिया गया था। अल्लाह का शुक्र है कि वह अपहरणकर्ताओं के चंगुल से भाग से भाग निकली, वह अब ठीक महसूस कर रही है। दोनों देशों के संबंधि अधिकारियों से घटना के बारे में बताया गया है। जिन लोगों ने भी मेरे प्रति संवेदना जाहिर की है उनके प्रति मैं अपना आभार व्यक्त करता हूं।