राजनीति

बीजेपी नेता अरूण जेटली का एम्स में निधन, एक महीने में बीजेपी ने खोया दूसरा कद्दावर नेता

  6 अगस्त को बीजेपी नेता सुषमा स्वराज के बाद बीजेपी ने एक और छत्रप अरूण जेटली को खो दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री और वर्तमान सांसद अरूण जेटली ने आज एम्स में 12 बजकर 7 मिनट पर अंतिम सांस ली। 66 साल के अरूण जेटली को 9 अगस्त को एम्स में भर्ती कराया गया था। इससे पहले वो बीमारी के इलाज के लिए यूएस भी गये थे। जिसके बाद डॉक्टर्स ने उन्हें पूर्ण आराम की सलाह दी थी। जिसके चलते ही वो मोदी 2.0 की सरकार में शामिल नहीं हुए थे।   पीएम मोदी इस वक्त तीन दिवसीय दौरे पर यूएई में हैं, जबकि अमित ..

राहुल गांधी, गुलाम नबी आजाद, शरद यादव और येचुरी समेत दर्जन विपक्षी नेताओं का टोला पहुंच रहा है श्रीनगर, एयरपोर्ट से बैरंग वापिस लौटाये जायेंगे

 ANI-से साभार   कश्मीर घाटी में लगातार शांति बहाली से परेशान विपक्षी नेता 11 बजकर 50 मिनट पर दिल्ली से फ्लाइट लेकर श्रीनगर के लिए रवाना हुए हैं। विस्तारा एयरलाइन की यूके 0643 फ्लाइट करीब 1 बजकर 10 मिनट पर श्रीनगर पहुंचेगी। इस विमान में करीब एक दर्जन विपक्षी पार्टियों के नेता हैं, जिसमें राहुल गांधी, गुलाम नबी आजाद, शरद यादव, सीताराम येचुरी, डी राजा, मजीद मेनन और डीएमके के त्रिचि शिवा शामिल हैं। इन फ्लाइट रवाना होने से पहले इन नेताओं ने आरोप लगाया कि कश्मीर में हालात सामान्य नहीं ..

प्रियंका जी, नेहरू ने प्रजा परिषद् से कितनी बात की थी और जिन अलगाववादियों से कांग्रेस ने 30 साल तक बात की, उनसे क्या हल निकला?

   सोमवार को मीडिया के एक ग्रुप ने आरएसएस सरसंघचालक मोहन भागवत के आरक्षण संबंधी बयान को तोड़-मरोड़कर पेश करते हुए आरक्षण विरोधी बयान साबित करने की कोशिश की। गलत दिशा में बहस मोड़े जाने के बाद आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरूण कुमार ने स्पष्ट किया कि आरएसएस सरसंघचालक ने समाज में सद्भावना पूर्वक परस्पर बातचीत के आधार पर सभी प्रश्नों के समाधान का महत्व बताते हुए आरक्षण जैसे संवेदशनशील मुद्दे पर विचार करने का एक सुझाव सामने रखा था।    अरूण कुमार के इस बयान में बातचीत ..

J&K: जम्मू एयरपोर्ट वापिस लौटाये गये गुलाम नबी आज़ाद, कारगिल में प्रदर्शन के लिए स्थानीय नेता को फोन कर रहे हैं कांग्रेसी और कम्यूनिस्ट नेता

   मंगलवार को कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद दिल्ली से जम्मू की फ्लाइट लेकर जम्मू एयरपोर्ट पर उतरे, तो सुरक्षा एजेंसियों ने मौजूदा हालात की संवेदनशीलता को देखने के लिए गुलाम नबी आजाद को बाहर निकलने नहीं दिया और वापिस दिल्ली भेज दिया गया। इससे पहले गुलाम नबी आजाद ने इससे पहले 8 अगस्त को श्रीनगर जाने की कोशिश की थी, तब भी उनको एयरपोर्ट से ही वापिस भेज दिया गया था।      दरअसल आर्टिकल 370 को हटाने और राज्य पुनर्गठन के बाद जम्मू कश्मीर में लगातार सामान्य हालात ..

देश छोड़ने की तैयारी में दिल्ली एयरपोर्ट पर शाह फैसल गिरफ्तार, श्रीनगर में किया गया नजरबंद- रिपोर्ट

  आईएएस का पद छोड़ नेता बने शाह फैसल को दिल्ली इंदिरा गांधी एयरपोर्ट पर गिरफ्तार कर लिया गया। जिसके बाद शाह फैसल को श्रीनगर भेजकर हाउस अरेस्ट कर लिया गया है। अभी तक ये पता नहीं चल पाया है कि शाह फैसल किस देश जा रहा था। इस खबर की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पायी है।  4 अगस्त की शाम को जम्मू कश्मीर पुलिस ने श्रीनगर के ज्यादातर नेताओं को हाउस अरेस्ट कर लिया था। लेकिन हालिया पार्टी बनी जम्मू कश्मीर पीपल्स मूवमेंट के नेता शाह फैसल और शेहला रशीद को हिरासत में नहीं लिया गया था। जिसका नतीजा ..

“कृष्ण-अर्जुन” की तरह है मोदी-अमित शाह की जोड़ी- महानायक रजनीकांत, मिशन-कश्मीर पूरा होने पर दी बधाई

   सिनेमा जगत के सुपरस्टार रजनीकांत ने मोदी और अमित शाह को “कृष्ण-अर्जुन” की उपाधि देकर जमकर तारीफ की। रजनीकांत चेन्नई में उपराष्ट्रपति वैंकया नायडू की पुस्तक के विमोचन में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। मंच पर मौजूद गृहमंत्री अमित शाह से मुखातिब होते हुए रजनीकांत ने कहा कि- “अमित शाह जी और मोदी जी की जोड़ी अर्जुन-कृष्ण की तरह है, हमें ये नहीं पता कि इनमें अर्जुन कौन है और कृष्ण कौन। वो तो सिर्फ ये दोनों ही जानते हैं। तो मैं आपको और देश को शुभकामनाएं देता हूं।”&n..

कम्यूनिस्ट नेता सीताराम येचुरी और डी राजा श्रीनगर एयरपोर्ट पर हिरासत में, बाहर निकलने पर पाबंदी

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी और सीपीआई के डी राजा आज सुबह फ्लाइट से श्रीनगर एयरपोर्ट पर उतरे थे। जहां उनको जम्मू कश्मीर पुलिस ने लॉ-ऑर्डर की स्थिति को देखते हुए हिरासत में ले लिया। दोनों नेताओं को श्रीनगर एयरपोर्ट से बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी जा रही है। दोनों नेता श्रीनगर में बाहर निकलने की बहस कर रहे हैं, हालांकि पुलिस ने लीगल ऑर्डर भी दोनों नेताओं को दिखा दिया है। संभावना है कि शाम तक दोनों नेताओं को वापिस दिल्ली भेज दिया जायेगा।  आपको बता दें कि 4 अगस्त की शाम सीपीएम के नेता मोहम्मद युसूफ ..

महबूबा और उमर अब्दुल्ला को खाली करने होंगे आलीशान सरकारी बंगले, 370 की आड़ में भोग रहे थे शाही जिंदगी

आर्टिकल 370 के हटने के बाद से अब जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों को अपना सरकारी बंगला भी खाली करना पड़ सकता है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगला खाली करना पड़ेगा। अब तक आर्टिकल 370 की आड़ में अब तक दोनों नेता सुप्..

कांग्रेस के इन नेताओं ने दिया #370 को हटाने के लिए समर्थन, गांधी परिवार हुआ नाराज़, CWC ने किया प्रस्ताव पास

  मंगलवार को लोकसभा में 370 सांसदों ने आर्टिकल 370 को हटाने पर मुहर लगा दी। इसी के साथ आर्टिकल 370 जम्मू कश्मीर के संबंध में हमेशा के लिए खत्म हो गया। इतिहास के निर्माण में जहां राहुल गांधी समेत पूरी कांग्रेस देश की भावनाओं के खिलाफ खड़े थे। कुछ नाम ऐसे भी थे, जिन्होंने कांग्रेस में होते हुए भी देशहित में आर्टिकल 370 को हटाने के लिए खुलकर समर्थन किया। इन नेताओं में सबसे पहले समर्थन दिया सालों तक सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार रहे वरिष्ठ नेता जनार्दन द्विवेदी ने, सुनिए उनका बयान-  &nbs..

रचा गया इतिहास, लोकसभा में आर्टिकल 370 संशोधन प्रस्ताव और पुनर्गठन बिल पास, दो प्रदेशों में बंटा J&K

   आर्टिकल 370 अब सिर्फ इतिहास की किताबों में दिखायी देगा। क्योंकि भारत की संसद ने संविधान से आर्टिकल 370 को निष्प्रभावी बनाने का प्रस्ताव पास कर दिया है। इसके साथ ही लोकसभा में जम्मू कश्मीर राज्य पुनर्गठन बिल भी पास कर दिया गया। राज्य सभा ..

कांग्रेसी अधीर रंजन चौधरी का लोकसभा में देशविरोधी बयान- “यूएन की देखरेख में हैं कश्मीर, ये भारत का अंदरूनी मुद्दा नहीं”

  लोकसभा मे कांग्रेस ने आज साफ कर ही दिया कि पिछले 70 सालों वो जम्मू कश्मीर पाकिस्तान के झगड़े में क्यों फंसा रहा। कांग्रेस दरअसल जम्मू कश्मीर का अंदरूनी हिस्सा मानती ही नहीं, जिसको विपक्ष के नेता अधीर रंजन चौधरी ने लोकसभा में दोहराया भी। अधीर रंजन चौधरी ने अमित शाह से पूछते हुए कहा कि- “आप कहते हैं ये (जम्मू कश्मीर) अंदरूनी मुद्दा है, लेकिन ये 1948 से यूएन की निगरानी में है, क्या ये अंदरूनी मुद्दा हुआ। हमने पाकिस्तान के साथ शिमला समझौता और & Lahore Declaration किया। तो फिर ये ..

कांग्रेस के देशविरोधी बयान पर अमित शाह का दमदार जवाब- “PoJK भारत का हिस्सा है, जान देंगे कश्मीर के लिए”

  गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में आज सीधे और सपाट में समझा दिया कि पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर को लेकर भारत सरकार क्या रूख है। दरअसल लोकसभा में आर्टिकल 370 में संशोधन और जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल का प्रस्ताव पेश कर रहे थे, तभी विपक्षी नेताओं ने  पीओजेके के बार में पूछा, जब अमित शाह ने पीओजेके यानि पाकिस्तान अधिक्रांत जम्मू कश्मीर के बारे मेंं साफ किया कि- मैं ये बात रिकॉर्ड पर रखना चाहता हूं, जब मैं जम्मू कश्मीर बोलता हूं Pak Occupied और अक्साई चीन भी जम्मू कश्मीर का हिस्सा है, ..

जानिए क्या-क्या बदलाव आयेंगे जम्मू कश्मीर में, #Explained #SimpleFacts

 5 अगस्त 2019, जम्मू कश्मीर के इतिहास में उस तारीख के तौर पर जाना जायेगी। जहां के बाद जम्मू कश्मीर राज्य संवैधानिक, राजनीतिक और भौगोलिक रूप से हमेशा के लिए बदल जायेगा। संसद में जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल पास होने के बाद जम्मू कश्मीर दो केंद्र शासित प्रदेशों में बंट जायेगा। पहला प्रदेश होगा- जम्मू कश्मीर (जहां विधानसभा होगी, उदाहरण- दिल्ली) और दूसरा केंद्र शासित प्रदेश होगा- लद्दाख (यहां कोई विधानसभा नहीं होगी, उदाहरण- लक्षद्वीप) ।  इसी के साथ दोनों की राज्यों के नागरिकों के अधिकार, प्रशासनिक ..

जम्मू कश्मीर राज्य का होगा पुनर्गठन, बनेंगे 2 केंद्र शासित प्रदेश- जम्मू कश्मीर और लद्दाख, जम्मू कश्मीर में दिल्ली की तरह विधानसभा होगी

   भारत सरकार के अनुमोदन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अनुच्छेद 370 और 35A को हटा दिया है, और साथ ही जम्मू कश्मीर राज्य का पुनर्गठन करने का भी आदेश जारी कर दिया है। इसके तहत 2 केंद्र शासित प्रदेश बनेंगे, 1. जम्मू कश्मीर और 2. लद्दाख।  इसमें जम्मू कश्मीर में केंद्रशासित प्रदेश दिल्ली की तरह विधानसभा भी होगी। लेकिन लद्दाख चंड़ीगढ़ की तरह केंद्रशासित प्रदेश होगा।  ..

"सिर्फ कश्मीर वैली के नेता ही क्यों परेशान हैं आर्टिकल 370 और 35A के हटने की संभावना से, जम्मू या लद्दाख के क्यों नहीं !!"

  जम्मू कश्मीर को लेकर पिछले कुछ दिनों से अफवाहों का बाजार गर्म है. अफवाहें इतनी फैलीं कि जम्मू कश्मीर के लोगों से ज्यादा नेता घबराये हुए हैं। लेकिन मज़ेदार बात यह है कि जितने चिंतामग्न नेता हैं, उनमें से कोई भी जम्मू या लद्दाख से नहीं है, सभी कश्मीर घाटी से हैं, जो राज्य का सबसे छोटा हिस्सा है. तो ऐसा क्या हो गया है जिससे राज्य के इस सबसे छोटे हिस्से के बड़े-बड़े नेताओं की नींद हराम हो गयी है, वे बैचेन हो गए हैं, कभी प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं, तो कभी राज्य के गवर्नर से मिलने दौड़े जा रहे हैं. ..

J&K बैंक घोटाले में महबूबा मुफ्ती पर भी कसा एंटी करप्शन ब्यूरो का शिकंजा, भेजा नोटिस

   J&K बैंक में 1200 कर्मचारियों की भर्ती की धांधली के मामले में एंटी करप्शन ब्यूरो की जांच का शिकंजा महबूबा मुफ्ती तक पहुंच गया है। पूर्व चेयरमैन को हटाने की कार्रवाई के बाद एसीबी ने इस भर्ती घोटाले की जांच शुरू की थी। एसीबी ने महबूबा मुफ्ती को नोटिस भेजकर पूछा कि क्या इस भर्ती प्रक्रिया में उन्होंने या उनकी सलाह पर किसी मंत्री ने तत्कालीन चेयरमैन से पसंदीदा उम्मीदवार को भर्ती कराने की सिफारिश की थी या नहीं।    दरअसल इस बाबत एसीबी ने अप्रैल महीने में जेएंडके ..

टेरर फंडिंग मामले में इंजीनियर रशीद से NIA की पूछताछ, शाह फैसल के राजनीतिक साथी हैं रशीद

  कश्मीर घाटी में आतंकवाद फैलाने के लिए टेरर फंडिंग मामले में नेशनल इंवेस्टीगेशन एजेंसी आज पूर्व विधायक इंजीनियर रशीद से पूछताछ कर रही है। रशीद से पूछताछ एनआईए दूसरी बार कर रही है, इससे पहले भी रशीद से 2017 में पूछताछ की गयी है। पूछताछ में रशीद से कुछ संपत्तियों और मनी ट्रांज़ेक्शन्स का ब्यौरा मांगा गया है। दरअसल इंजीनियर रशीद का नाम टेरर फंडिंग के मुख्य आरोपी और कश्मीरी बिजनेसमैन जहूर अहमद वताली की पूछताछ में दोबारा सामने आया था।   हाल ही में ईडी ने वताली की 8 करोड़ की संपत्ति ..

"1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों को बीजेपी और जगमोहन ने भगाया था", J&K के हालात पर कांग्रेस का घिनौना आरोप, पत्रकार भी आये समर्थन में

  शनिवार को जम्मू कश्मीर के ताजा़ हालात पर बयान देते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने 1990 में कश्मीरी हिंदूओं को घाटी से भगाने का जिम्मेदार बीजेपी, आरएसएस और तत्कालीन राज्यपाल जगमोहन को ठहराया। मौजूदा हालात में आतंकी हमलों की आशंका के बाद पर्यटकों से घाटी छोड़ने की एजवायज़री को 1990 के कश्मीरी हिंदू पलायन से जोड़ते कांग्रेस नेता ये बयान दिया। दरअसल कांग्रेस का हमेशा से यहीं मानना रहा है कि कश्मीरी हिंदूओं को आतंकवाद या अलगाववादियों द्वारा की गयी हत्याओं, नरसंहारों या फिर बलात्कारों ..

सोमवार सुबह बुलाई गयी मोदी कैबिनेट की मीटिंग, राष्ट्रपति भी अफ्रीका दौरे से वापिस लौटे, निकलेगा अस्थायी मुद्दों का स्थायी हल

  जम्मू कश्मीर के ताज़ा हालात और नियंत्रण रेखा पर तनाव के बीच सोमवार को यूनियन कैबिनेट की बैठक बुलाई गयी है। ये बैठक 7, लोक कल्याण मार्ग यानि पीएम हाउस में सुबह साढ़े 9 बज़े बुलाई गयी है। ताज़ा राजनीतिक और लाइन ऑफ कंट्रोल ये मीटिंग काफी अहम मानी जा रही है, संसद का मौजूदा सत्र भी जल्द ही 6 अगस्त को खत्म होने वाला है। आपको याद दिला दें कि बीजेपी ने अपने सांसदों को 5-6 अगस्त को संसद में हाजिर रहने के लिए व्हिप जारी किया है।   ताज़ा सूचना के मुताबिक गृह मंत्री अमित शाह भी संसद ..

J&K गवर्नर का सीधा जवाब- “जो होगा पार्लियामेंट में होगा, छिपाकर कुछ नहीं, सोमवार-मंगलवार तक पार्लियामेंट का इंतज़ार करें”

   जम्मू कश्मीर में लगातार पनपती अफवाहों के बीच गवर्नर सत्यपाल मलिक ने एक बयान जारी किया है। न्यूज एजेंसी एएनआई को दिये बयान में गवर्नर ने कश्मीर में आर्टिकल 35A और 370 को हटाने की खबरों के बीच माहौल बिगाड़ने की कोशिश कर रहे नेताओं की जवाब देते हुए कहा कि- “पार्लियामेंट सेशन में है, जोकि 3-4 दिन और सेशन में रहेगी। तो जो होगा पार्लियामेंट में होगा, छिपाकर कुछ नहीं होगा। वो पार्लियामेंट में लाया जायेगा, चर्चा की जायेगी। तो अफवाह न फैलायें, सोमवार-मंगलवार तक इंतज़ार करें, तभी कुछ ..

आर्टिकल 35A और 370 हटाने के विरोध में खड़ी हुई कांग्रेस, J&K पॉलिसी एंड प्लानिंग ग्रुप मीटिंग में फैसला

  जम्मू कश्मीर से संबंधित भारतीय संविधान का आर्टिकल 35A और 370 को हटाने की खबरों के बीच कांग्रेस भी उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के पाले में खड़ी हो गयी है। दिल्ली में J&K पॉलिसी एंड प्लानिंग ग्रुप की मीटिंग के बाद का कांग्रेस ने बयान जारी कर कहा कि वो आर्टिकल 35A और 370 हटने नहीं देगी। कांग्रेस के इस ग्रुप में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, गुलाम नबी आजाद, डॉ करण सिंह, पी. चिदम्बरम, अंबिका सोनी, ताकिर हामिद कर्रा, स्टेट कांग्रेस प्रेजीडेंट गुलाम अहमद मीर और रिंगज़िंग जोरा शामिल थे। &..

आतंकी हमलों के मद्देनज़र एहतियात बरतने पर अब्दुल्ला और महबूबा के भड़काऊ बयान जारी, श्रीनगर में कश्मीरी नेताओं की ऑल-पार्टी मीटिंग

  कश्मीर घाटी में आतंकी हमलों के मद्देनजर सुरक्षा-व्यवस्था मजबूत करने में लगी है। लेकिन सरकार और सुरक्षा एजेंसियों द्वारा बार-बार बयान देने के बावजूद भी कश्मीर घाटी के नेता माहौल को भड़काने में लगे हैं। फिलहाल श्रीनगर में पीडीपी, नेशनल काँफ्रेंस और जम्मू कश्मीर पीपल्स मूवमेंट समेत ऑल पार्टी मीटिंग की जा रही है। जिसमें मौजूदा हालात पर चर्चा की बात कही जा रही है। इस बीच उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती सोशल मीडिया के जरिये दनादन बयान देकर सुरक्षा एजेंसियो का साथ देने के बजाय हालात को और बदतर ..

आर्टिकल 35A कानून नहीं सज़ा है, जिसे पंडित नेहरू ने तानाशाही अंदाज़ में देश पर थोपा था

      "एक ऐसा क्षण होगा, जो इतिहास में बहुत कम आता है, जब हम पुराने को छोड़कर नए जीवन में कदम रखते हैं। जब एक युग का अंत होता है, जब राष्ट्र की चिर काल से दमित आत्मा नवउद्धार प्राप्त करती है। यह सर्वथा उचित है कि इस गंभीर क्षण में हम भारत और उसके लोगों और उससे भी बढ़कर मानवता के हित के लिए सेवा-अर्पण करने की शपथ लें।" यह देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के वाक्य हैं, जो उन्होंने स्वतंत्रता से कुछ क्षण पहले संविधान सभा के समक्ष कहे थे।   अगस्त 1947 का ..

आर्टिकल 35A हटाने की संभावना से घबराये अब्दुल्ला, पीएम मोदी से मिले नेशनल कांफ्रेंस के नेता

  कश्मीर घाटी में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती और आर्टिकल 35A को हटाये जाने की संभावना को देखते हुए अब्दुल्ला परिवार परेशान है। पिछले एक हफ्ते से उमर अब्दुल्ला सोशल मीडिया पर राजनीतिक माहौल बनाने में लगे हैं। इसी कड़ी में नेशनल काँफ्रेंस के नेताओं का एक डेलीगेशन आज दिल्ली में पीएम मोदी से मिला। इसमें फारूख अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और एमपी हसनैन मसूदी शामिल थे। पीएम मोदी से मुलाकत करने के बाद मीडिया से बात करते हुए उमर अब्दुल्ला ने कहा कि उन्होंने पीएम मोदी को जम्मू कश्मीर के हालात ..

जिनको आजादी चाहिए वो पाकिस्तान जाएं, हिंदुस्तान को तोड़कर आजादी नहीं मिलेगी- सत्यपाल मलिक, जम्मू कश्मीर राज्यपाल

 जम्मू कश्मीर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बयान दिया कि जो आजादी का मतलब पाकिस्तान के साथ जाना समझते है, वो जा सकते है किसने उन्हें रोका है। लेकिन अगर कोई हिंदुस्तान को तोड़कर आजादी चाहता है तो उसे आजादी नहीं मिलेगी।राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि “ 1 साल तक मेरा शॉल वाला भी मुझसे पूछता रहा कि साहब आजाद हो जाएगें क्या ? मैनें कहा तुम तो आजाद ही हो, अगर तुम आजादी पाकिस्तान के साथ जाना समझते हो तो चले जाओ कौन रोक रहा है ? लेकिन हिंदुस्तान को तोड़कर आजादी नहीं मिलेगी ।  जम्मू कश्मीर के राज्यपाल ..

भाजपा की बैठक दिल्ली में है और पारा कश्मीर में चढ़ा है।

 ( कुछ ही देर में बैठक शुरू होगी ) अनुच्छेद 35 A को लेकर शंकाओ और आशंकाओं के बीच भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व जम्मू कश्मीर के नेताओं के साथ आज बैठक करेगा। सूत्रों की माने तो बैठक में जम्मू कश्मीर को लेकर महत्वपूर्ण फैसला लिया जा सकता है। इस बैठक में देश के गृह मंत्री अमित शाह के साथ-साथ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी रह सकते है। इस से पहले बीते कल जम्मू कश्मीर की ग्रीष्मकालीन राजधानी जम्मू में भाजपा के नेताओ के बैठकों के अनेक दौर चले। दिन भर इस बैठक को लेकर अटकलों का दौर जारी रहा। ..

बड़गाम में हुई आरपीएफ सिक्योरिटी मीटिंग, फिर घबराये उमर अब्दुल्ला, मीटिंग में 4 महीने का राशन जमा करने और फैमिली को घर भेजने का सुझाव

  शनिवार को जम्मू कश्मीर के बड़गाम में रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के अधिकारियों की आज एक इमरजेंसी मीटिंग हुई। जिसमें कश्मीर घाटी में चल रहे हालात और लॉ-ऑर्डर की स्थिति को लेकर चर्चा की गयी। इस मीटिंग में आरपीएफ के अधिकारियों ने रेलवे कर्मचारियों को एहतियातन कुछ सुझाव दिये हैं। जिसके मुताबिक कुछ सुझाव इस प्रकार हैं:  1. सभी कर्मचारियों को किसी भी इमरजेंसी स्थिति से निपटने के लिए कम से कम 4 महीने का सूखा राशन जमा करने को कहा गया है।  2. कम से कम 7 दिन के इस्तेमाल लायक पानी ..

पूर्व आईएएस शाह फैसल को कश्मीर में सिक्योरिटी डेप्लॉयमेंट से डर क्यों लगता है? –एक वरिष्ठ पत्रकार का खुला पत्र

प्रिय शाह फैसल साहब , कश्मीर को लेकर आपकी और इमरान खान की बढ़ी चिंता के बीच मेरे व्यक्तिगत सुझाव पर प्रकाश डाला जा सकता है।  जनसंघ के संस्थापक नेता श्यामाप्रसाद मुख़र्जी की कश्मीर में रहस्मयी मौत पर दुःख व्यक्त करते हुए तात्कालीन उपराष्ट्रपति..

जम्मू कश्मीर-बीजेपी की चुनावी तैयारियां तेज़, 30 जुलाई को अहम बैठक, पीएम मोदी और अमित शाह होंगे मौजूद

जम्मू कश्मीर-बीजेपी की चुनावी तैयारियां तेज़, 30 जुलाई को अहम बैठक, पीएम मोदी और अमित शाह होंगे मौजूद..

केंद्र को महबूबा की धमकी- “जो हाथ 35A के साथ छेड़छाड़ करने के लिए उठेंगे, वो हाथ ही नहीं वो सारा जिस्म जलकर राख हो जायेगा”

 Image- ANI  जम्मू कश्मीर से संबंधित आर्टिकल 35A को हटाये जाने की अफवाहों के बीच महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार को एक बार फिर धमकी दी है। पीडीपी चीफ और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने श्रीनगर में अपने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार को धमकी देते हुए कहा कि- ''35A के साथ छेड़छाड़ करना बारूद के साथ हाथ लगाने के बराबर होगा, जो हाथ 35A के साथ छेड़छाड़ करने के लिए उठेंगे, वो हाथ ही नहीं वो सारा जिस्म जल के राख हो जायेगा।''  दरअसल महबूबा मुफ्ती पीपल्स डेमोक्रेटिक ..

J&K: पुलिस ने मंगवाये दंगा-नियंत्रण के उपकरण, तो घबराये उमर अब्दुल्ला

  आमतौर पर नेताओं को राज्य में लॉ-ऑर्डर की बेहतर इंतजाम देखकर खुश होना चाहिए लेकिन कश्मीर में नेता उल्टे घबराहट और अफवाह फैलाने लग जाते हैं। एक बार फिर ये देखने को मिला..शनिवार को जम्मू कश्मीर पुलिस हेडक्वार्टर ने तमाम पुलिस जोन को आदेश जारी किया कि राज्य में 100 कंपनियां अतिरिक्त तैनात की जा रही हैं। उन्हें “स्पेशल लॉ एंड ऑर्डर ड्यूटी” के तहत अपनी कमांड में तैनात करने की व्यवस्था करें। इस आदेश में सभी जोन की पुलिस को कहा गया कि RIOT CONTROL EQUIPMENTS यानि दंगा नियंत्रक उपकरणों ..

J&K: 100 कंपनियों की अतिरिक्त तैनाती से क्यों घबराये अब्दुल्ला-मुफ्ती-फैसल जैसे नेता!! 35A खत्म होने से राजनीति खत्म होने का डर हावी

गृह मंत्रालय ने जम्मू कश्मीर में आतंकवाद और लॉ एंड ऑर्डर से निपटने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाबलों की 100 कंपनियां तैनात करने का आदेश जारी किया है। इसके तहत सीआरपीएफ की 50 कंपनी, एसएसबी (सशस्त्र सीमा बल) की 30 और बीएसएफ-आईटीबीपी की 10-10 कंपनी तैनात की जा रही..

उमर अब्दुल्ला ने फिर लिया आतंक की राजनीति का सहारा, कहा- “इस बार इलेक्शन बायकॉट किया बुरहान वानी और जाकिर मूसा के त्राल में बीजेपी का एमएलए होगा”

   जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एक बार फिर आतंकियों को सीधे-सीधे एंडोर्स करते नज़र आये। गुरूवार को श्रीनगर में नेशनल काँफ्रेंस के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पार्टी के वाइस प्रेज़ीडेंट उमर अब्दुल्ला ने कहा कि - “हमें खबरदार रहना पडेगा। जो बायकॉट की बात मुबारक गुल (JKNC Leader) साहब ने की सही की। क्योंकि बायकॉट से बड़ा खतरा है दोस्तों, अंदाज़ा करिये अगर पार्लमानी इलेक्शन के नतीजे असेम्बली इलेक्शन के तहत हुए, तो त्राल का एमएलए बीजेपी का होगा। अंदाजा करिये... जिस त्राल ..

कारगिल विजय दिवस पर एक ट्वीट तक नहीं कर पाये राहुल गांधी, अब्दुल्ला और मुफ्ती परिवार

  कारगिल विजय की 20वीं वर्षगांठ पर शहीदों को विनम्र श्रद्धांजलि देने लिए संसद से लेकर लाइन ऑफ कंट्रोल तक, देशभर में जगह-जगह कार्यक्रम आयोजित किये गये हैं। हर कोई अपने-अपने तरीके से शहीदों को नमन कर रहा है। लेकिन विडंबना है कि कि देश और जम्मू कश्मीर पर सालों तक राज़ करने वाले परिवारों के वंशज नेता राहुल गांधी, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती कारगिल विजय दिवस पर एक शब्द न कह पाये। न कोई वीडियो संदेश आया, न ही कोई ट्वीट कर पाये।  ऐसा नहीं है कि ये तीनों सोशल मीडिया से दूर हैं, इनको ..

"PSOs, SPOs को क्यूं मारते हो, उन्हें मारो जिन्होंने कश्मीर का सारी दौलत लूटी है"- राज्यपाल सत्यपाल मलिक

   जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने आज आतंकवाद के लिए हथियार उठाने वाले नौजवानों को संदेश देते हुए एक ऐसा बयान दिया जिस पर बवाल खड़ा हो गया। कारगिल लद्दाख टूरिज्म फेस्टिवल, कारगिल में बोलते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि- "ये जो लड़के बंदूक लिए फिज़ूल में अपने लोगों को मार रहे हैं, पीएसओ (Personal Security Officer) और एसपीओ (Special Police Officer) को मारते हैं। क्यों मार रहे हो इनको। उन्हें मारो जिन्होंने तुम्हारा मुल्क लूटा है। जिन्होंने कश्मीर की सारी दौलत लूटी है। इनमें ..

सुशासन की ओर अग्रसर जम्मू-कश्मीर, राज्य के लिए वरदान साबित हुआ गवर्नर राज

    - शिवपूजन प्रसाद पाठक  जम्मू-कश्मीर पिछले एक वर्ष से राज्यपाल के अधीन है। महबूबा मुफ्ती की सरकार गिरने के बाद से विधायी और कार्यपालिका की शक्तियाँ राज्यपाल के हाथों में आ गयी हैं । जम्मू-कश्मीर में राजपाल के माध्यम से शासन करने का लम्बा इतिहास रहा है लेकिन वर्तमान राज्यपाल शासन बहुआयामी सुधारात्मक कदम उठा रहा है जिसमें प्रशासनिक, आर्थिक सुधार व सुशासन की गतिविधियां शामिल है । ये सभी प्रयास बहुप्रतीक्षित मांग है और इसके प्रभाव दूरगामी होंगे । ..

VDCs के खिलाफ सांप्रदायिक माहौल भड़काने पर पीडीपी नेताओं पर एफआईआर दर्ज, कार्रवाई पर तिलमिलाये पीडीपी नेता

  किश्तवाड़ में पीडीपी के एमएलसी फिरदौस टाक समेत कई नेताओं के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इनपर आरोप है कि फिरदौस टाक और स्थानीय नेताओं ने चेनाब वैली में गठित की विलेज डिफेंस कमेटी को सांप्रदायिक रंग देकर लोगों को भड़काने का काम किया है। इसके साथ ही इन नेताओं ने गवर्नर एडमिनिस्ट्रेशन, बीजेपी और आरएसएस के खिलाफ किश्तवाड़ की मस्जिद के पास प्रदर्शन किया और लोगों सांप्रदायिक भाषण देकर लोगों को भड़काया।  दरअसल पिछले अक्टूबर के बाद किश्तवाड़ में कई आतंकी घटनाएं हुई थीं। जिसमें ..

J&K: बीजेपी की सदस्यता ले रहे हैं आतंकवाद से पीड़ित परिवार, सदस्यता अभियान में 3.4 लाख नए सदस्य जुड़े

  भाजपा का सदस्यता अभियान 6 अगस्त से शुरू हुआ। इसके तहत जम्मू कश्मीर के कई ज़िलों में जनसमूह ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। जम्मू कश्मीर राज्य में बीजेपी हमेशा से कमजोर रही है लेकिन 2018 के शहरी निकाय चुनाव में भाजपा के 104 पार्षद जीत कर आए। वहीं..

13 जुलाई का सच बोलने पर कांग्रेसी विक्रमादित्य सिंह के खिलाफ दूसरे कांग्रेसी नेता सैफुद्दीन सोज़ ने उगला जहर

  13 जुलाई 1931 की तारीख वो काला अध्याय है, जिस दिन जम्मू कश्मीर के इतिहास में सांप्रदायिक दंगों की शुरूआत हुई थी। दंगाईयों को रोकने की कोशिश में प्रशासन की कार्रवाई में मारे गये लोगों को शहीदों को दर्जा देकर पिछले 70 सालों से जम्मू कश्मीर में एक सांप्रदायिक एजेंडा Maryrs’ Day मनाया जाता रहा है। जबकि जम्मू के डोगरा इसको ब्लैक डे के रूप में मनाते हैं। जिस दिन महाराजा हरि सिंह के खिलाफ सांप्रदायिक ताकतों ने हिंसा के सहारे पूरे श्रीनगर को दंगों की आग में झोंक दिया था। वो आग जो आज तक नहीं ..

“कश्मीर की नयी पीढ़ी दूसरे राज्यों की तुलना में ज्यादा महत्तवाकांक्षी हैं, हमें उन तक पहुंचना है, क्योंकि वो हमारे साथ चलने को तैयार हैं”- डॉ जितेंद्र सिंह, केंद्रीय मंत्री, पीएमओ

   केंद्र सरकार में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ जितेंद्र सिंह ने जम्मू कश्मीर में आतंकवाद प्रभावित क्षेत्रों में नयी पीढ़ी को अपने साथ लेकर चलने का आव्हान किया। दिल्ली में जम्मू कश्मीर अध्ययन केंद्र द्वारा आयोजित एक पुस्तक के विमोचन में डॉ जितेंद्र सिंह ने कहा कि- ''पिछले कुछ सालों से आईएएस और आईआईटी एग्जाम पास करने वाले ऐसे छात्रों की संख्या बढ़ रही है, जोकि आतंकवाद प्रभावित जिलों से आते हैं। हर साल 30 से 40 कश्मीरी बच्चे एनआईटी और आईआईटी एंट्रेस एग्जाम क्वालिफाई कर रहे हैं। ..

1975 में इंदिरा गांधी द्वारा शेख को जेल से निकाल सीधे सत्ता सौंपने की ऐतिहासिक गलती का नतीजा, 9 जुलाई 1977, जब शेख अब्दुल्ला फिर से बने जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री

    29 सितंबर 1947 को पंडित नेहरू और महात्मा गांधी की सलाह पर महाराजा हरि सिंह ने एक माफीनामे के बाद शेख अब्दुल्ला को रिहा कर दिया। इसके बाद जम्मू कश्मीर के अधिमिलन के बाद नेहरू ने जम्मू कश्मीर की सत्ता की चाबी सीधे जेल से बाहर आये शेख अब्दुल्ला के हाथों में सौंप दी। नेहरू शेख अब्दुल्ला को संपूर्ण जम्मू कश्मीर का एकमेव नेता घोषित थोपने की कवायद में जुटे थे और इसमें वो कामयाब भी रहे। लेकिन जम्मू कश्मीर की जनता के साथ सबसे बड़ा राजनीतिक धोखा था। खासतौर पर जम्मू, लद्दाख और श्रीनगर ..

J&K में जनमत संग्रह का प्रोपगैंडा चलाने वालों को गृहमंत्री का करारा जवाब- “आज सवाल ही नहीं है जनमत संग्रह का, 1949 में सहमति देना इतिहास की सबसे बड़ी गलती”

  जम्मू कश्मीर में यूएन सिक्योरिटी काउंसिल का हवाला देकर जनमत संग्रह कराने का प्रोपगैंडा पिछले 70 सालों से जारी है। पाकिस्तान और अलगाववादियों के अलावा देश के लिबरल पत्रकार भी अक्सर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर जम्मू कश्मीर में जनमत संग्रह कराने का प्रोपगैंडा फैलाते रहे हैं। देखिए अक्सर टीवी चैनलों पर बीजेपी विरोधी तकरीरें करने वाली पत्रकार सबा नकवी अल-जजीरा पर कैसे जनमत-संग्रह की हिमायत कर रही है। वीडियो 2016 का है...   जनमत संग्रह के प्रोपगैंडा पर देश की सरकारों ने कभी स्पष्ट राय ..

“130 अलगाववादी नेताओं के बच्चे विदेश में पढ़ रहे हैं और घाटी में स्कूल बंद करवा दिये”- अमित शाह का खुलासा, देखिए लिस्ट- किस-किस के बच्चे विदेश में मौज़ कर रहे हैं

   सोमवार को राज्यसभा में बोलते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर में देश को तोड़ने की बात करने वाले अलगावदावियों के प्रति सरकार का नजरिया स्पष्ट कर दिया। अमित शाह ने कहा कि- “हमारा अप्रोच स्पष्ट है, जो भारत को तोड़ने की बात करेगा। उसको उसी भाषा में जवाब मिलेगा और जो भारत के साथ रहना चाहते हैं। उसके कल्याण की हम चिंता करेंगे।’’   अमित शाह ने खुलासा किया कि जम्मू कश्मीर में सक्रिय 130 अलगाववादी नेताओं के बच्चे विदेश में पढ़ रहे हैं और यहां कश्मीर ..

J&K में राष्ट्रपति शासन और जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 सर्वसम्मति से पास। कांग्रेस, टीएमसी, पीडीपी, डीएमके, आरजेडी और बीजेडी समेत तमाम दलों ने किया समर्थन

 लोकसभा में पास होने के बाद जम्मू कश्मीर में 3 जुलाई से और 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन के प्रस्ताव को राज्यसभा में भी पास कर दिया गया। इसके अलावा राज्य में जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक 2019 भी सर्वसम्मति से पास कर दिया गया। राष्ट्रपति शासन के प्रस्ताव और विधेयक को पास करने के लिए कांग्रेस, टीएमसी, पीडीपी, डीएमके, आरजेडी और बीजेडी समेत तमाम दलों ने किया समर्थन दिया। बहस के अंत में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर के संदर्भ में आतंकवाद, सुरक्षा व्यवस्था, पत्थरबाज़ी औऱ चुनाव ..

राज्यसभा में अमित शाह ने पेश किया J&K में राष्ट्रपति शासन और आरक्षण (संशोधन) विधेयक पेश, बहस जारी

  लोकसभा में प्रस्ताव पास होने के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने जम्मू कश्मीर में 3 जुलाई से 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन लागू करने का प्रस्ताव पेश किया है। 2 जुलाई को जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की अवधि समाप्त हो रही है। इसके अलावा अमित शाह ने अंतराष्ट्रीय सीमा पर रहने वाले लोगों के लिए आरक्षण के प्रावधान और जनरल कैटेगरी के गरीब वर्ग के लिए 10 फीसदी आरक्षण को जम्मू कश्मीर मे लागू करने के लिए जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक राज्यसभा में पेश किया है। बीजू जनता दल ने भी दोनों प्रस्तावों ..

“370 अस्थायी है, परमानेंट नहीं है, ये याद रखियेगा”, लोकसभा में अमित शाह ने रखा सरकार का मत, जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक और राष्ट्रपति शासन का प्रस्ताव लोकसभा में पास

   गृह मंत्री अमित शाह ने आज लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण (संशोधन) विधेयक और 3 जुलाई से और 6 महीने के लिए राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने का प्रस्ताव पेश किया था। लोकसभा में जोरदार बहस के बाद दोनों ही बिल ध्वनिमत से लोकसभा में पारित कर दिये गये। इसके बाद दोनों बिल को राज्यसभा में पास होने के लिए भेजा जायेगा।  इस बीच इन प्रस्तावों पर विपक्ष के सवालों के जवाब में गृहमंत्री अमित शाह ने आर्टिकल 370, आतंकवाद, विधानसभा चुनाव और जम्मू कश्मीर में विकास के बारे में सरकार का पक्ष ..

गृह मंत्रालय का सीधा जवाब, अस्थायी है आर्टिकल 370

   जम्मू कश्मीर से संबंधित भारतीय संविधान के प्रावधान आर्टिकल 370 को लेकर मोदी सरकार की राय बेहद सपाट और स्पष्ट रही है। राज्य सभा में सांसदो द्वारा पूछे गये सवालों के जवाब में भी गृह मंत्रालय से वहीं तथ्य दोहराया कि आर्टिकल 370 एक टेम्परेरी और ट्रांज़िसनल प्रोविज़न है। यानि देर-सवेर इसका हटना संविधान के अनुरूप तय है। दरअसल ताजा मामले में कांग्रेस की राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, सुखराम सिंह यादव और विशम्भर प्रसाद निषाद के अलावा बीजेपी सांसद प्रभात झा ने आर्टिकल 370 की मौजूदा संवैधानिक ..

26 जून को दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर जायेंगे अमित शाह, सिक्योरिटी पर होगी हाई-लेवल मीटिंग

   केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 26 जून को 2 दिवसीय दौरे पर कश्मीर घाटी जाने वाले वाले हैं। पहले अमित शाह 30 जून को एक दिन के लिए श्रीनगर जाने वाले थे। लेकिन उस वक्त बजट के बिज़ी शेड्यूल के चलते दौरे पहले ही प्लान कर लिया गया है। अपने इस दौरे में अमित शाह श्रीनगर में एक हाई-लेवल मीटिंग में हिस्सा लेंगे। जिसमें आर्मी, खुफिया एजेंसियां और जम्म कश्मीर पुलिस के आला अधिकारी मौजूद रहेंगे। इसके बाद अमित शाह बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे और फिर पंचायत मेंबर्स के साथ भी अलग से एक कार्यक्रम ..

अमित शाह आज पेश करेंगे अपना पहला बिल- जम्मू कश्मीर रिज़र्वेशन अमेंडमेंट बिल

  गृह मंत्री अमित शाह आज अपने लोकसभा करियर का पहला बिन पेश करेंगे, जोकि जम्मू कश्मीर से जुड़ा है। अमित शाह आज लोकसभा में जम्मू कश्मीर रिज़र्वेशन अमेंडमेंट बिल पेश करेंगे। जोकि जम्मू कश्मीर में आर्थिक रूप से कमज़ोर जनरल कैटेगरी के लिए 10 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था करेगा।  चुनाव से पहले मार्च में ही एक ऑर्डिनेंस जारी कर इस कानून का लागू किया गया था। लेकिन अब इसे संसद में पास कराना ज़रूरी है। इस ऑर्डिनेंस के तहत जम्मू एंड कश्मीर रिज़र्वेशन एक्ट, 2004 में बदलाव किया गया था। इस ऑर्डिनेंस ..

डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मृत्यू पर जेपी नड्डा ने लगाया कांग्रेस और नेहरू पर सीधा और बड़ा आरोप #WATCH

भारतीय जन संघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की संदिग्ध मौत पर बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बड़ा सवाल खड़ा किया है। जेपी नड्डा ने तत्कालीन प्रधानमंत्री और कांग्रेस सर्वेसर्वा जवाहर लाल नेहरू पर सीधा आरोप लगाया है। 66वें बलिदान दिवस पर जेपी नड्डा ने कहा है कि - “सारे देश ने इंक्वायरी मांगी, उनकी माताजी ने इंक्वायरी मांगी, लेकिन पंडित नेहरू ने इंक्वायरी नहीं कराई...” देखिए पूरा वीडियो-  23 जून 1953 में डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी की मृत्यू की पूरी कहानी जानने के ..

“सामने से फायरिंग होगी तो जनरल साब जवाब बुके से नहीं, बुलेट से ही देंगे”- J&K गवर्नर सत्यपाल मलिक

    जम्मू कश्मीर के गवर्नर सत्यपाल मलिक ने आज राज्य में आतंकवाद के घटते प्रभाव और बढ़ते विकास कार्यों पर संतुष्टि जाहिर की। गवर्नर ने कहा कि जुम्मे की नमाज़ के बाद पत्थरबाज़ी लगभग रूक चुकी है। हम युवाओं को वापिस मेनस्ट्रीम में लाना चाहते हैं। उसके लिए स्कीम सोची जा रही हैं। लेकिन ये सच कि अगर सामने से फायरिंग हो रही हो तो आप उसे बुके तो देंगे नहीं, जनरल साब उसका जवाब बुलेट से ही देंगे।    गवर्नर आज शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कांफ्रेंस सेंटर में एक दूरदर्शन के सरकारी ..

शाह फैसल और इंजीनियर रशीद का प्री-पोल अलायंस- बनाया पीपल्स यूनाइटेड फ्रंट, कश्मीर में अब्दुल्ला और मुफ्ती परिवार की राजनीति के खिलाफ मैदान में

  बारामूला सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले निर्दलीय उम्मीदवार इंजीनियर रशीद ने 1,02168 वोट पाकर सबको चौंका दिया। तीसरे स्थान पर रहे इंजीनियर रशीद ने पीडीपी और कांग्रेस दोनों के टोटल वोट से ज्यादा वोट हासिल किये थे। इस चुनाव में हालिया नेता बने शाह फैसल ने भी इंजीनियर रशीद का समर्थन किया था। हालांकि शाह फैसल की पार्टी ने खुद चुनाव नहीं लड़ा था।  अब जब जम्मू कश्मीर में विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू हो चुकी हैं। अमरनाथ यात्रा के बाद चुनावों की घोषणा की संभावना है, यानि अक्टूबर में। ..

J&K में करप्शन पर सर्जिकल स्ट्राइक जारी, श्रीनगर डिप्टी मेयर के ठिकानों पर छापेमारी में J&K बैंक से जुड़े 170 करोड़ के लोन घोटाले और सैंकड़ों करोड़ की अवैध संपत्ति का खुलासा

  मंगलवार को इनकम डिपार्टमेंट ने श्रीनगर के डिप्टी मेयर इमरान शेख के ठिकानों पर छापेमारी की। जिसमें सैंकड़ों करोड़ के घपलों का खुलासा हुआ। इसमें J&K बैंक से लिया गया 170 करोड़ के लोन का खपला भी शामिल है। इन छापेमारी में आईटी डिपार्टमेंट ने शेख इमरा की सोनमर्ग, पहलगाम, दिल्ली और बैंगलोर में अवैध प्रॉपर्टी का खुलासा भी किया।  आईटी डिपार्टमेंट की प्रेस रिलीज़ के मुताबिक- आईटी डिपार्टमेंट ने मंगलवार को श्रीनगर के एक बिजनेस ग्रुप के श्रीनगर में 8, बैंगलोर में 1 और दिल्ली में 1 ठिकाने ..

#Exposed AAP के पूर्व नेता आशुतोष की वेबसाइट सत्यहिंदी.कॉम के कोरे असत्य का पर्दाफाश, देखिए जम्मू कश्मीर के नाम पर कैसे झूठ फैलाया जा रहा है

 “ क्योंकि आपको जानना चाहिए सच “ यह टैग लाइन है ऑनलाइन पोर्टल सत्यहिंदी.कॉम की . अप अपनी ही टैग लाइन पर यह पोर्टल कितना खरा उतरता है , यह स्पष्ट होता है 5 जून , 2019 की लेख की जांच से। जिसका शीर्षक है . क्या जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा जल्द ही ख़त्म हो जाएगा?   केवल यह शीर्षक इस बात को समझने के लिए काफी है कि “ सत्यहिंदी.कॉम “ सत्य और तथ्य दोनों से कौसों दूर है। लेख के इस शीर्षक को पढने से लगता है जैसे जम्मू कश्मीर को संविधान ने कोई विशेष दर्जा दिया है जिसे ..

पंजाब की सियासी जंग में कैप्टन ने सिद्धू को दी पटखनी, बड़बोले सिद्धू को किया कैबिनेट से आउट, गांधी परिवार का आशीर्वाद भी काम न आया

  पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिद्धू के बीच चल रही राजनीतिक जंग में आज कैप्टन ने विजयी छक्का मारकर सिद्धू को पस्त कर दिया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को अपनी कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। सिद्धू से शहरी विकास मंत्रालय का पदभार छीन लिया गया है। आज रात तक कैबिनेट में फेरबदल की आधिकारिक घोषणा कर दी जायेगी। आपको बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और सिद्धू के बीच सियासी जंग कई महीनों से चल रही है। सिद्धू ने पाकिस्तान जाकर जब पाकिस्तानी आर्मी चीफ ..

बेंगलुरू-बेगुसराय में अपार सफलता के बाद एक्टर प्रकाश राज की फुरसतिया क्रांति अब पहुंची कश्मीर, एक तरफ फिल्म-शूटिंग तो दूसरी तरफ फैसल-शेहला मार्का पॉलिटिक्स का प्रचार भी जारी

   हालिया लोकसभा चुनाव में एक्टर प्रकाश राज बेंगलुरू मध्य सीट से न तो खुद की जमानत बचा पाये, न ही उस किसी उम्मीदवार को फायदा पहुंचा पाये। जहां-जहां प्रकाश राज ने चुनाव प्रचार किया था, मसलन बेगुसराय में कन्हैया कुमार, आरा में भाकपा उम्मीदवार और दिल्ली में आम आदमी पार्टी उम्मीदवारों के लिए। लेकिन चौतरफा करारी हार के बाद एक्टर प्रकाश राज का राजनीतिक क्रांति का ख्वाब अभी भी पल रहा है। यहीं वजह है कि कश्मीर में फिल्म की शूटिंग में मसरूफ होने के बावजूद प्रकाश राज शाह फैसल, शेहला रशीद मार्का ..

मोदी सरकार 2.0 बनते ही कश्मीर एडिटर्स गिल्ड में भी शुरू हुई हलचल, ग्रेटर कश्मीर एडिटर ने दिया इस्तीफा, आखिर पुरानी सरकारों में मलाई खाने वाले पत्रकारों में क्यों बढ़ी बेचैनी?

   जम्मू कश्मीर में पुलवामा हमले के बाद केंद्र सरकार ने राज्य प्रशासन के जरिये कश्मीर के अलगाववादी पसंद मीडिया पर भी नकेल कसनी शुरू की थी। इस कड़ी में राज्यपाल ने ग्रेटर कश्मीर और कश्मीर रीडर समेत कई अखबारों के सरकारी विज्ञापन बंद कर दिये थे। जिससे ये अखबार करोड़ों का धंधा किया करते थे। लेकिन फिर भी अलगाववादी और आतंकवाद परस्त रिपोर्टिंग किया करते थे। इन मीडिया हाउसेस को उम्मीद थी कि दिल्ली में सरकार बदलेगी तो इनकी किस्मत फिर पलटेगी। लेकिन मोदी सरकार और मजबूती के साथ दोबारा सत्ता में ..

J&K गवर्नर सत्यपाल मलिक ने की गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात, राज्य के मौजूदा हालात की दी जानकारी, कश्मीर में मीरवाइज के बदले सुर

  गृहमंत्री अमित शाह ने आज नॉर्थ ब्लॉक में अपने मंत्रालय का पदभार संभाल लिया। जिसके बाद गृहमंत्री ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात की। जिसमें राज्यपाल ने राज्य के मौजूदा हालात, विकास कार्यों और चुनौतियों की चर्चा गृहमंत्री से की। राजनीतिक हलकों में इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। क्योंकि अमित शाह के गृहमंत्री की खबर सामने आते ही तमाम राजनीतिक पंडित ये मान रहे हैं कि जम्मू कश्मीर में बहुत जल्द और तेज़ी से हालात बदलेंगे। गृहमंत्री से मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते ..

लगातार तीसरे दिन मीडिया का एक और झूठ बेनकाब, मुंबई में फिल्म कलाकारों को मुस्लिम आतंकी होने के शक में गिरफ्तार करने की खबर भी निकली फेक न्यूज़

  29 मई को टीवी9 गुजराती ने एक खबर ट्वीट की, जिसमें कहा गया कि मुंबई पुलिस ने फिल्म इंडस्ट्री में काम करने वाले 2 मुस्लिम युवकों को इसीलिए आतंकी समझकर गिरफ्तार कर लिया गया। क्योंकि उनका “गेट-अप” आतंकियों जैसा था। ये भी बताया गया कि ये दोनों रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की मूवी की शूटिंग के लिए जा रहे थे।  बस फिर क्या था, एनडीटीवी, टीवी-18, इंडियन एक्सप्रैस, इंडिया टुडे और रशियन टुडे जैसे कई इंटरनेशनल मीडिया ग्रुप ने इस खबर को बिना वेरिफाई किये ज्यों का त्यों छाप दिया। ..

अमित शाह बने नये गृह मंत्री, अब अनुच्छेद 370, 35A समेत अलगाववादी, नक्सली और रोहिंग्या घुसपैठियों की खैर नहीं

  मोदी सरकार ने नये मंत्रियों के पदभार की घोषणा कर दी है और इसी के साथ घोषणा हो गयी उस दिशा और कार्यप्रणाली की भी। जिस ओर नयी सरकार की नीतियां तय होनी है। अमित शाह को गृह मंत्री बनाकर पीएम मोदी ने प्राथमिकता तय कर दीं हैं। जानकार बता रहे हैं कि इन प्राथमिकताओं में अनुच्छेद 370 और 35A को हटाने और जम्मू कश्मीर में अलगाववादियों, नक्सलियों पर लगाम लगाने के साथ-साथ देशभर से रोहिग्यां घुसपैठियों को वापिस भेजना शामिल है।  अनुच्छेद 370 और 35A का भविष्य??  आपको बता दें कि जम्मू ..

मोदी सरकार पहले 100 दिनों में कर सकती है ऐतिहासिक इकोनॉमिक रिफॉर्म, एयर इंडिया समेत 44 सरकार उपक्रमों का निजीकरण संभव- रायटर्स

   मोदी सरकार की शपथ के बाद आने वाले दिनों में होने वाले फैसलों को लेकर तस्वीर धीरे-धीरे साफ होने लगी है। सरकार के सामने सबसे बड़ा चैलेंज इकॉनोमी को मजबूत करना है। इंटरनेशनल न्यूज एजेंसी रायटर्स के मुताबिक सरकार पहले 100 दिनों में ऐतिहासिक इकॉनोमिक रिफॉर्म्स का खाका तैयार कर चुकी है। नीति आयोग द्वारा तैयार खाके के मुताबिक आने वाले दिनों में लेबर लॉ, निजीकरण, बैंकिंग और इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट से जुड़े ढेरों बदलाव होने तय हैं। जिससे फॉरेन इंवेस्टमेंट को आकृषित करने में आसानी हो।  &nbs..

ये 2 चेहरे बने नयी मोदी सरकार की प्रतिभा की पहचान, देखिए मोदी कैबिनेट की पूरी लिस्ट

   नरेद्र मोदी ने दूसरी बार शपथ ग्रहण कर इतिहास रच दिया। साथ ही शपथ ली 58 मंत्रियों ने। जिसमें 28 कैबिनेट मिनिस्टर हैं, 20 स्वतंत्र प्रभार और 9 राज्य मंत्री। इनमें 2 चेहरे ऐसे रहे, जिन्होंने सबको चौंका दिया, लेकिन यहीं चेहरे आने वाली मोदी सरकार की दिशा और पहचान तय करने वाले हैं। इनमें पहला नाम रहा सुब्रमनयम जयशंकर का। जो कि पूर्व विदेश सचिव रह चुके हैं, इससे पहले वो चीन, अमेरिका और रूस के राजदूत भी रह चुके हैं। डोकलाम विवाद में भारत की जीत सुनिश्चित करने वाले एस जयशंकर मोदी सरकार में ..

J&K: जितेंद्र सिंह का दोबारा मंत्री बनना तय, इस बार ऊधमपुर सांसद बनाये जा सकते हैं कैबिनेट मंत्री

  राष्ट्रपति भवन में आज शाम नरेंद्र मोदी दोबारा पीएम पद की शपथ लेंगे। इससे पहले मोदी सरकार में मंत्री बनने वाली लिस्ट लगभग साफ हो गयी है। मंत्री पद के लिए जिनको फोन आ चुका है, उनमें राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, अर्जुनराम मेघवाल, जितेंद्र सिंह, धर्मेंद्र प्रधान, रविशंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, स्मृति ईरानी, कृष्ण पाल गुर्जर, बाबुल सुप्रियो, सदानंद गौड़ा, मुख्तार अब्बास नकवी, जी किशन रेड्डी, निर्मला सीतारमण,सुरेश अंगाडी, राज्यवर्धन सिंह राठौड़, संजय धोत्रे, सोम प्रकाश, किरण रिजिजू, ..

देखिए TIME कैसे रंग बदलता है, टाइम मैगज़ीन का नया खुतबा, मोदी को अब घोषित किया UNITER OF INDIA

   मीडिया इंटरनेशनल हो या देशी, फायदा देखकर रंग बदलना उसकी अदा है। इसका ताज़ा उदाहरण है टाइम मैगज़ीन। चुनाव के दौरान मई के पहले हफ्ते में टाइम मैगज़ीन ने एक मोदी विरोधी संस्करण छापा था। जिसमें मोदी को India’s Divider in Chief की उपाधि से नवाज़ा था। भारत में मोदी विरोधी पार्टियों, पत्रकारों और एक्टिविस्टों ने इस आर्टिकल को जमकर शेयर किया था और इंटरनेशनल मीडिया में मोदी की निगेटिव छवि का सहारा लेकर जमकर चुनावी माहौल तैयार किया था। लेकिन जाहिर है तमाम दांव उल्टे पड़े, मोदी ने देश ..

लिबरल मीडिया का भाषाई आतंक जारी, इस्लामिक स्टेट के आतंकियों को बता रहे हैं एक्टिविस्ट और वर्कर, हिंदू नारों और शब्दावली को बदनाम करने का गोरखधंधा चरम पर

  पिछले 5 सालों में लिबरल मीडिया ने हिंदुत्व को आतंकवाद से जोड़ने की भरपूर कोशिश की, दो तरफा प्रोपगैंडा चलाया गया। एक तरफ हिंदुत्व आतंकवाद का जुमला बार-बार उछाला गया और साथ ही दुनिया भर में खतरा बने मुस्लिम आतंकवाद को इस्लामोफोबिया के नाम पर खारिज किया गया। लेकिन इस चुनाव में लोगों ने इस प्रोपगैंडा की हवा निकाल दी। रिजल्ट के तुरंत बाद चौतरफा हार के बावजूद भी लिबरल मीडिया का ये प्रोपगैंडा रूका नहीं है। बल्कि और तेज़ हो गया है..। आइये हम आपको कुछ उदाहरण के साथ समझाते हैं।   पहला ..

Exposed: सीसीटीवी ने खोली गुरूग्राम में मुस्लिम युवक की झूठी कहानी की पोल, न मारपीट हुई और न ही कपड़े फटे, 6 नहीं सिर्फ एक शराबी से हुआ था झगड़ा

  मोदी की शानदार जीत से बौखलाये लिबरल मीडिया और लूटियन एक्टिविस्ट पिछले 3 दिनों से एक मुस्लिम युवक के साथ हुई मारपीट को लेकर हल्ला मचाये हुए। घोषणा की जा रही थी, कि कैसे मुस्लिम देश में असुरक्षित हैं। लेकिन लिबरल पत्रकारों-एक्टिविस्ट्स को उस वक्त गहरा सदमा पहुंचा। जब गुरूग्राम पुलिस की जांच के दौरान सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि पीड़ित मुस्लिम युवक की कहानी ही झूठी है। मुस्लिम युवक मोहम्मद बरकत आलम ने जो बयान दिया था, सीसीटीवी में हकीकत उससे कहीं जुदा निकली। दरअसल बरकत आलम ने दावा किया था ..

डियर लिबरल्स, North, East-West के बाद South इंडिया में भी नंबर-वन बनी बीजेपी, देखिए आंकड़े

  जब 1996 में पहली बार बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी और वाजपेयी सरकार बनी, तब लिबरल गैंग मीडिया और पार्टियों ने बीजेपी को काऊ-बेल्ट की पार्टी या हिंदी भाषी क्षेत्र की पार्टी घोषित कर बीजेपी के बढ़ते वर्चस्व को कमतर करने की कोशिश की। आज जब बीजेपी अकेले अपने दम पर 303 सीट जीतकर सरकार बना रही है, अभी भी सोशल मीडिया पर साउथ इंडिया में न जीत पाने का प्रोपगैंडा फैलाया जा रहा है। बताया रहा है कि यहां अभी भी कांग्रेस का वर्चस्व है, जबकि सच ये है कि पूरे साउथ इंडिया के 6 राज्यों (कर्नाटका, आंध्र ..

गोण्डा में 23 मई को एक मुस्लिम परिवार में जन्मा बच्चा, मां ने गर्व से नाम रखा नरेंद्र मोदी, परिवार का भी समर्थन

  मोदी विरोधी लिबरल मीडिया भले ही मोदी के मुस्लिम विरोधी करार देने में कोई कसर न छोड़ते हों, लेकिन पिछले सालों में मोदी सरकार ने जाति और धर्म का भेदभाव किये बिना हरेक गरीब तक गैस, पक्का मकान और स्वास्थ्य स्कीम पहुंचायी। नतीजा ये हुआ कि लोगों ने जाति-धर्म से ऊपर उठकर मोदी को जिताया। मुस्लिमों में मोदी का क्या प्रभाव है इसका एक उदाहरण देखने मिला यूपी के गोंडा जिले में। यहां एक मुस्‍ल‍िम परिवार ने पीएम मोदी से प्रभावित होकर अपने घर जन्म लेने वाले बच्‍चे का नाम ही उनके नाम ..

घाटी की राजनीति में अब उमर अब्दुल्ला और सज्जाद लोन के बीच होगा सीधा मुकाबला, पीडीपी और कांग्रेस रेस से बाहर

  लोकसभा चुनाव के नतीजों ने कश्मीर घाटी की राजनीति में भी नया मोड़ ला दिया है। कश्मीर ने जनता ने एक तरफ पिछली मुख्यमंत्री पीडीपी को हाशिये पर फेंक दिया है। वहीं दूसरी तरफ जनता ने नेशनल कांफ्रेंस को पहली पसंद के तौर पर चुना और तीनों सीट एनसी ने जीती। लेकिन जनता ने इसके साथ-साथ एक और नेता पर अपना भरोसा जताया है, वो हैं जम्मू कश्मीर पीपल्स कांफ्रेंस के सज्जाद लोन। कश्मीर की 3 लोकसभा सीटों पर मिले वोटों का आंकड़ा बताता है, घाटी में अब सीधा मुकाबला अब्दुल्ला परिवार और सज्जाद लोन के बीच होगा। &nbs..

जाकिर मूसा के जनाजे में Islamic State के झंडों और नारेबाजी पर चुप, लेकिन मध्य प्रदेश में एक शख्स के साथ मारपीट के नाम पर फेक न्यूज फैलाने में सबसे आगे निकली महबूबा मुफ्ती

   लोकसभा चुनाव नतीज़ों में जनता ने महबूबा को 5 नंबर पर पहुंचा दिया। जिसके बाद महबूबा मुफ्ती चुप हो गयीं थी, एकदम शांत। 23 मई को कश्मीर घाटी में सुरक्षा एजेंसियों ने मोस्ट वांटेड आतंकी, अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट समर्थित आतंकी जाकिर मूसा को मार गिराया। लेकिन महबूबा चुप रहीं, कुछ नहीं बोली। इसके अगले दिन पुलवामा के त्राल इलाके के नूरपोरा में जाकिर मूसा को दफनाने के दौरान जमकर इस्लामिक स्टेट और पाकिस्तान के लिए नारे लगे। चारों तरफ इस्लामिक स्टेट के झंडे लहराये गये, यहां तक कि जाकिर मूसा ..