24 साल का एक पश्तून नौजवान- जिसने पाकिस्तानी सत्ता की चूलें हिला दीं, 1971 के बाद पाकिस्तानी आर्मी के लिए सबसे बड़ी चुनौती
24 साल का एक पश्तून नौजवान- जिसने पाकिस्तानी सत्ता की चूलें हिला दीं, 1971 के बाद पाकिस्तानी आर्मी के लिए सबसे बड़ी चुनौती
  करीब 5 साल पहले मई 2014 में पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा की गोमल यूनिवर्सिटी में जब एक 20 साला स्टूडेंट ने एक छोटी सी पहल शुरू की, जिसका नाम रखा गया महसूद तहफुज़ मूवमेंट। जिसका मकसद था उसके इलाके वजीरिस्तान के महसूद में पाकिस्तानी आर्मी द्वारा बिछायी गयी लैंडमाइंस को हटाने के लिए मुहिम शुरू करना। ये लैंडमाइन्स पाकिस्तान ने तहरीके-तालिबान-पाकिस्तान के सफाये के लिए शुरू किये ऑपरेशन ज़र्ब-ए-अज़्ब में बिछायीं थी। जिनको बाद में हटाया नहीं गया। इन लैंडमाइन्स की वजह से इन इलाकों में रहने वाले पश्तूनों
read more